#undefined

bolkar speaker

क्या सीमित इच्छाएं दिन मौत की तरफ ले जाती है?

Kya Seemit Ichchhaein Din Maut Ki Taraf Le Jaati Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
1:14
नमस्कार कैसे हैं आप सवाल 81 हुई थी 1 दिन मौत की तरफ ले जाती है सर जी बिल्कुल भक्त होते काफी हद तक सही है कि मैं असीमित इच्छा होती है उसको मौत की तरफ ले जाती क्योंकि जो असीमित इच्छा होती हो निर्मल इस पूरी करने के लिए दिन-रात कड़ी मेहनत करता है और इतनी मेहनत करता है कि उसे अपने जीवन के बारे में कुछ ख्याल ही नहीं रहता बच्चों को असीमित इच्छा ही याद आती है कि मुझे अपनी इच्छा पूरी करने में काफी है जान से जुट जाता है लेकिन क्या है कि किसने जी जान से जुट गए हैं कि उसे अपने मृत्यु का भी ख्याल नहीं होता नीचे तेरे ऊपर एक दिन हुआ था जब उसकी मृत्यु हो जाती लेकिन उसके असीमित इच्छा नहीं पूरी हो पाती है इसी कारण है कि अपनों अपनों अपनों का बुरा बुरा के तो काफी हद तक आप इसमें क्या की पसंद रहेगी अगर आपकी इच्छा सीमित है और आपको प्रॉब्लम ज्यादा इच्छा अपनी रहती हो सबकी होती है जरा प्ले पूरी कर ले तो जिंदगी भर हमेशा खुश रहते और किसी भी प्रकार का कोई भी दुख नहीं होता बस आपकी तो सोचा सोच हमेशा अपने पॉजिटिव तुम सवाल का जवाब होगा
Namaskaar kaise hain aap savaal 81 huee thee 1 din maut kee taraph le jaatee hai sar jee bilkul bhakt hote kaaphee had tak sahee hai ki main aseemit ichchha hotee hai usako maut kee taraph le jaatee kyonki jo aseemit ichchha hotee ho nirmal is pooree karane ke lie din-raat kadee mehanat karata hai aur itanee mehanat karata hai ki use apane jeevan ke baare mein kuchh khyaal hee nahin rahata bachchon ko aseemit ichchha hee yaad aatee hai ki mujhe apanee ichchha pooree karane mein kaaphee hai jaan se jut jaata hai lekin kya hai ki kisane jee jaan se jut gae hain ki use apane mrtyu ka bhee khyaal nahin hota neeche tere oopar ek din hua tha jab usakee mrtyu ho jaatee lekin usake aseemit ichchha nahin pooree ho paatee hai isee kaaran hai ki apanon apanon apanon ka bura bura ke to kaaphee had tak aap isamen kya kee pasand rahegee agar aapakee ichchha seemit hai aur aapako problam jyaada ichchha apanee rahatee ho sabakee hotee hai jara ple pooree kar le to jindagee bhar hamesha khush rahate aur kisee bhee prakaar ka koee bhee dukh nahin hota bas aapakee to socha soch hamesha apane pojitiv tum savaal ka javaab hoga

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या सीमित इच्छाएं दिन मौत की तरफ ले जाती है?Kya Seemit Ichchhaein Din Maut Ki Taraf Le Jaati Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:40
नमस्कार दोस्तों आप का प्रेस नहीं की क्या ऐसी मित्र इच्छाएं दिन 1 दिन मौत की तरफ ले जाती है तो दोस्तों आपका मानना और आपका कहना बिल्कुल सही है असीमित इच्छाएं हमें स्वार्थ भावना की तरफ ले जाती है हमारी स्वार्थ की भावना से होती है तो वह हमें असीमित इच्छा जागृत करने के लिए कहती हैं और वह उनकी पूर्ति करते करते और हमारा तो उनको करने का साधन है व्यवसाय करने का साधन है वह हमारा गलत हो जाता है हमारे कर्म गलत हो जाते हैं हमारा रास्ता भी गलत हो जाता है तो इसलिए मौत की भी गुंजाइश होती है कभी भी हमारी किसी भी समय मौत हो जाती है यदि हम दिन रात हमें यह सवाल भावना लगी रहती है कि हमें कमाना है कमाई करनी है कैसे भी हो बड़ा बनना है कैसे भी हो नाम पाना है यस शोहरत धन दौलत सब कुछ पानी है और हमें चाहे कैसे भी कार्य करने पड़े तो दोस्तों यह तो ऐसी स्थाई है वह आपको लोग में झोंक देगी यानी कि सवार्थ भावना में झोंक देगी और सवार था आपको कुछ भी कराने करा सकता है यह जो स्वार्थ भावना होती है लोग की भावना होती है वह आपसे कुछ भी करवा सकती है हमने ऐसे ही काफी कथाएं बड़ी कथा सुनी नाटक सुनें फिल्में देखी कि आदमी अच्छे होते हैं आदमी पहले पहले तो आदमी में कोई स्वार्थ भावना नहीं होती है जैसे तैसे उनका जीवन यापन चलता रहता है लेकिन कोई एक ऐसा शत-शत जीवन में आता है वह कहता है कि ऐसे हो जाएगा जीवन में और आपको यह काम करना चाहिए वह कम करना चाहिए जैसा आपका दिल कहता है ना उनकी बात सुननी चाहिए मन की नहीं मन आपका डोलेगा बार-बार डोलेगा कि हां हम कर लेंगे हमेशा कर सकते हैं क्या पता हो ही जाए हमारे ऐसा करने से फिर हमारे पास साधन की सुविधा हो जाएगी या यह हमारे पास सुविधा हो जाएगी तो आप फिर वह सोच आपको नेगेटिव रिपोर्ट है नकारात्मक विचार वह आपको अरे घर में लेकर के जाती है और ऐसे में इच्छाएं भी पैदा करवाती है जिसकी वजह से आप बुरे कर्तव्य बुरे कर इतने भी करने लग जाते हैं जिसकी वजह से 1 दिन ऐसा आता है उसके चंगुल से छूट गई बातें कैसे भी करके और आपको मानसिक अशांति होती है स्ट्रेस बढ़ता है तनाव बढ़ता है हर किसी का दबाव भी बढ़ने लगता है तो इतना ज्यादा लोगों का दबाव हो जाता है इस प्रेस इतना ज्यादा दिमाग पर मन पर हो जाता है चिंताएं दुनिया भर की इतनी ज्यादा हो जाती है कि या तो आप को कोई मार डालता है या फिर आप आत्मा से क्या कहते हैं उसे आत्मा आत्महत्या कर लेते हैं इस प्रकार से दोनों में से कोई एक आपके साथ जरूर घटित होता है दूसरों दूसरे व्यक्ति का मार डालना या फिर सुसाइड कर लेना तो ऐसी स्थिति में आए इसके लिए जो आपके पास है तो उसी में संतोष रखना चाहिए विद्वान लोग यही कहते हैं जैसे कि अहिंसा ही परम धन होता है वैसे ही संतोष ही परम धन होता है जो संतोष रखते हैं धैर्य रखते हैं जितना अपने पास है उस में खुश रहने की जो कला है वह सीखनी चाहिए तो जितना आपके पास है उतने में खुश रहिए हमें सभी को रहना चाहिए तो वही हमारे लिए सबसे अच्छी बात है हां धीरे-धीरे मारा विकास होता है हमें अच्छे कर्म करते हुए मुंह पर तक जाते हैं लोग हमें जो ऊपर तक ले जाएंगे वह हमारी सफलता होगी उसमें हमें कोई भी तनाव कोई भी चिंता नहीं होगी धन्यवाद
Namaskaar doston aap ka pres nahin kee kya aisee mitr ichchhaen din 1 din maut kee taraph le jaatee hai to doston aapaka maanana aur aapaka kahana bilkul sahee hai aseemit ichchhaen hamen svaarth bhaavana kee taraph le jaatee hai hamaaree svaarth kee bhaavana se hotee hai to vah hamen aseemit ichchha jaagrt karane ke lie kahatee hain aur vah unakee poorti karate karate aur hamaara to unako karane ka saadhan hai vyavasaay karane ka saadhan hai vah hamaara galat ho jaata hai hamaare karm galat ho jaate hain hamaara raasta bhee galat ho jaata hai to isalie maut kee bhee gunjaish hotee hai kabhee bhee hamaaree kisee bhee samay maut ho jaatee hai yadi ham din raat hamen yah savaal bhaavana lagee rahatee hai ki hamen kamaana hai kamaee karanee hai kaise bhee ho bada banana hai kaise bhee ho naam paana hai yas shoharat dhan daulat sab kuchh paanee hai aur hamen chaahe kaise bhee kaary karane pade to doston yah to aisee sthaee hai vah aapako log mein jhonk degee yaanee ki savaarth bhaavana mein jhonk degee aur savaar tha aapako kuchh bhee karaane kara sakata hai yah jo svaarth bhaavana hotee hai log kee bhaavana hotee hai vah aapase kuchh bhee karava sakatee hai hamane aise hee kaaphee kathaen badee katha sunee naatak sunen philmen dekhee ki aadamee achchhe hote hain aadamee pahale pahale to aadamee mein koee svaarth bhaavana nahin hotee hai jaise taise unaka jeevan yaapan chalata rahata hai lekin koee ek aisa shat-shat jeevan mein aata hai vah kahata hai ki aise ho jaega jeevan mein aur aapako yah kaam karana chaahie vah kam karana chaahie jaisa aapaka dil kahata hai na unakee baat sunanee chaahie man kee nahin man aapaka dolega baar-baar dolega ki haan ham kar lenge hamesha kar sakate hain kya pata ho hee jae hamaare aisa karane se phir hamaare paas saadhan kee suvidha ho jaegee ya yah hamaare paas suvidha ho jaegee to aap phir vah soch aapako negetiv riport hai nakaaraatmak vichaar vah aapako are ghar mein lekar ke jaatee hai aur aise mein ichchhaen bhee paida karavaatee hai jisakee vajah se aap bure kartavy bure kar itane bhee karane lag jaate hain jisakee vajah se 1 din aisa aata hai usake changul se chhoot gaee baaten kaise bhee karake aur aapako maanasik ashaanti hotee hai stres badhata hai tanaav badhata hai har kisee ka dabaav bhee badhane lagata hai to itana jyaada logon ka dabaav ho jaata hai is pres itana jyaada dimaag par man par ho jaata hai chintaen duniya bhar kee itanee jyaada ho jaatee hai ki ya to aap ko koee maar daalata hai ya phir aap aatma se kya kahate hain use aatma aatmahatya kar lete hain is prakaar se donon mein se koee ek aapake saath jaroor ghatit hota hai doosaron doosare vyakti ka maar daalana ya phir susaid kar lena to aisee sthiti mein aae isake lie jo aapake paas hai to usee mein santosh rakhana chaahie vidvaan log yahee kahate hain jaise ki ahinsa hee param dhan hota hai vaise hee santosh hee param dhan hota hai jo santosh rakhate hain dhairy rakhate hain jitana apane paas hai us mein khush rahane kee jo kala hai vah seekhanee chaahie to jitana aapake paas hai utane mein khush rahie hamen sabhee ko rahana chaahie to vahee hamaare lie sabase achchhee baat hai haan dheere-dheere maara vikaas hota hai hamen achchhe karm karate hue munh par tak jaate hain log hamen jo oopar tak le jaenge vah hamaaree saphalata hogee usamen hamen koee bhee tanaav koee bhee chinta nahin hogee dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इच्छा मृत्यु के पक्ष में तर्क, इच्छा मृत्यु क्या है, यूथेनेसिया क्या है
URL copied to clipboard