#भारत की राजनीति

bolkar speaker

कोरोनावायरस के कारण लोगों ने खुद को कैसे बदल दिया?

Coronavirus Ke Karan Logon Ne Khud Ko Kaise Badal Diya
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:43
नमस्कार दोस्तों प्रश्न ही कोरोनावायरस के कारण लोगों ने खुद को कैसे बदल दिया तो दोस्तों बहुत सारे लोगों में बदलाव आया बहुत सारे जो लॉकडाउन के अंदर रहे बहुत ही गृहणी होने या बहुत सारी महिलाओं ने बहुत सारे अलग-अलग विभिन्न विभिन्न प्रकार के व्यंजनों को बनाने में प्रयोग किए उसमें पुरुष भी पीछे नहीं रहे जो पुरुष अकेले रहते थे या बिल्कुल उनका समय पास नहीं होता था वह भी अपनी पत्नी के साथ अपने साथी के साथ में रिश्तेदार के साथ आठ बताते रहते थे इसके अंदर बहुत आई थी उन्होंने और व्यापार का तरीका बदल गया काफी कैसे पार किया था जहां पहले खूब लूट मचाई गई थी मार्जिन बहुत ज्यादा रखे गए थे आजकल वह काफी कम हो गए क्योंकि आजकल मार्केट में जीवित रहना ही बहुत बड़ी बात है कि कंपटीशन ज्यादा है और मांग कम है केंद्र और कई लोगों की सोच में भी बदलाव आया है बहुत सारे लोगों से दे हर चीज पैसा है लेकिन इससे पता चल गया कि पैसा हर चीज नहीं है आपको अपने स्वास्थ्य पर भी ध्यान देना है आपको स्ट्रांग करनी है आपको सामाजिक व्यवहार में भी रहना है केवल गाड़ी काम नहीं आएगी कहीं कुछ काम याद आपका पड़ोसी काम आएगा आपका रिश्तेदार काम आएगा आपके पास जाना चाहिए सीखने को मिली और सरकार को ही पता चला कि हमें केवल मूर्तियां नहीं बनानी चाहिए हमें मेडिकल पर ध्यान देना चाहिए इतने बच्चे मेरे बिचारे डॉक्टर की तैयारी करते हैं लेकिन उन्हें छोड़ दिया जाता है इसके अंदर से बनाने जरूरी है हॉस्पिटल्स बनाने जरूरी है शिक्षा संस्थान बनाने जरूरी है अगर यह बने रहेंगे तो हमेशा वह देश चाहे कितना ही पिछड़ा हो आगे चला जाएगा आज आप अमेरिका की हालत देख रखते हैं वह मेडिकल फैसिलिटी फॉर टॉप लेवल की मानी जाती के लोग अमेरिका में जाना अपने आप में गर्व महसूस करते थे आज वहां कि आप स्थिति देख सकते हैं इसके अंदर तो बहुत सारी चीजें सीखने को मिल रहे हो और भी चीजें सीखने पूरा चिंतन लोगों ने करना चाहिए इसके अंदर और बहुत लोगों ने देखा कि कुछ सेविंग्स में हमारे को भी रखनी चाहिए और यह भी पता चला इसके अंदर की एक ही प्रकार का या पार ना करें अगर आप मालू एयर टिकटिंग का व्यापार करते हैं आप तो होटल बुकिंग का काम आप कर रहे हैं तो दोनों एक बार झटका लगा लो दोनों पर करें झटका लगा तो मैंने की रात किराने की दुकान है तो दूसरा उससे संबंधित व्यापार ना करें यानी कि 1 पर आए तो दूसरे पर ना आए बहुत सारे लोगों को पता चल गया कि कोई भी व्यापार चाहे कितना भी अच्छा लिंक कराने का व्यापार जो सस्ती वाली चीजें जरूरी है क्या मेडिकल क्षेत्र में हो यह कभी नहीं बंद हो सकती हैं एक शहर के लिए तो शिक्षण संस्थान बंधुओं के लोग कहते थे शिक्षा में मंदिर नहीं आ सकती है लेकिन जब हमारी आई तो बंद हो गई लेकिन मेडिकल लाइन के और जो खाने-पीने की वस्तुएं उसमें कभी मना नहीं आया तो बहुत था इसलिए धीरे-धीरे सीखने को मिल रही है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hee koronaavaayaras ke kaaran logon ne khud ko kaise badal diya to doston bahut saare logon mein badalaav aaya bahut saare jo lokadaun ke andar rahe bahut hee grhanee hone ya bahut saaree mahilaon ne bahut saare alag-alag vibhinn vibhinn prakaar ke vyanjanon ko banaane mein prayog kie usamen purush bhee peechhe nahin rahe jo purush akele rahate the ya bilkul unaka samay paas nahin hota tha vah bhee apanee patnee ke saath apane saathee ke saath mein rishtedaar ke saath aath bataate rahate the isake andar bahut aaee thee unhonne aur vyaapaar ka tareeka badal gaya kaaphee kaise paar kiya tha jahaan pahale khoob loot machaee gaee thee maarjin bahut jyaada rakhe gae the aajakal vah kaaphee kam ho gae kyonki aajakal maarket mein jeevit rahana hee bahut badee baat hai ki kampateeshan jyaada hai aur maang kam hai kendr aur kaee logon kee soch mein bhee badalaav aaya hai bahut saare logon se de har cheej paisa hai lekin isase pata chal gaya ki paisa har cheej nahin hai aapako apane svaasthy par bhee dhyaan dena hai aapako straang karanee hai aapako saamaajik vyavahaar mein bhee rahana hai keval gaadee kaam nahin aaegee kaheen kuchh kaam yaad aapaka padosee kaam aaega aapaka rishtedaar kaam aaega aapake paas jaana chaahie seekhane ko milee aur sarakaar ko hee pata chala ki hamen keval moortiyaan nahin banaanee chaahie hamen medikal par dhyaan dena chaahie itane bachche mere bichaare doktar kee taiyaaree karate hain lekin unhen chhod diya jaata hai isake andar se banaane jarooree hai hospitals banaane jarooree hai shiksha sansthaan banaane jarooree hai agar yah bane rahenge to hamesha vah desh chaahe kitana hee pichhada ho aage chala jaega aaj aap amerika kee haalat dekh rakhate hain vah medikal phaisilitee phor top leval kee maanee jaatee ke log amerika mein jaana apane aap mein garv mahasoos karate the aaj vahaan ki aap sthiti dekh sakate hain isake andar to bahut saaree cheejen seekhane ko mil rahe ho aur bhee cheejen seekhane poora chintan logon ne karana chaahie isake andar aur bahut logon ne dekha ki kuchh sevings mein hamaare ko bhee rakhanee chaahie aur yah bhee pata chala isake andar kee ek hee prakaar ka ya paar na karen agar aap maaloo eyar tikating ka vyaapaar karate hain aap to hotal buking ka kaam aap kar rahe hain to donon ek baar jhataka laga lo donon par karen jhataka laga to mainne kee raat kiraane kee dukaan hai to doosara usase sambandhit vyaapaar na karen yaanee ki 1 par aae to doosare par na aae bahut saare logon ko pata chal gaya ki koee bhee vyaapaar chaahe kitana bhee achchha link karaane ka vyaapaar jo sastee vaalee cheejen jarooree hai kya medikal kshetr mein ho yah kabhee nahin band ho sakatee hain ek shahar ke lie to shikshan sansthaan bandhuon ke log kahate the shiksha mein mandir nahin aa sakatee hai lekin jab hamaaree aaee to band ho gaee lekin medikal lain ke aur jo khaane-peene kee vastuen usamen kabhee mana nahin aaya to bahut tha isalie dheere-dheere seekhane ko mil rahee hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कोरोनावायरस के कारण लोगों ने खुद को कैसे बदल दिया?Coronavirus Ke Karan Logon Ne Khud Ko Kaise Badal Diya
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:42
हेलो एवरीवन आपका प्रश्न कोरोनावायरस के कारण लोगों ने खुद को कैसे बदल दिया तो फ्रेंड्स कोरोनावायरस के कारण हम लोगों ने एक दूसरे से गले मिलना छोड़ दिया हाथ मिलाना छोड़ दिया लोगों ने और लोग यह सोच रहे हैं लोग अब दूर से ही नमस्ते कर लेते हैं और हम और सब ने अपने हाथों को बार-बार धोना चालू कर दिया सैनिटाइजर लगाना सीख गए मत लगाना सीख गए सोशल डिस्टेंसिंग सीख गए और हम लोग ऐसे गए कि बिना बाहर जाए भी घर में रहा जा सकता है और घर में ही बिना बाहर की चीजें खाएं घर में भी हम बनाकर खा सकते हैं यह सब बातें कोरोनावायरस के कारण लोगों ने सीख लिया है और अपने आप को बदल लिया है धन्यवाद
Helo evareevan aapaka prashn koronaavaayaras ke kaaran logon ne khud ko kaise badal diya to phrends koronaavaayaras ke kaaran ham logon ne ek doosare se gale milana chhod diya haath milaana chhod diya logon ne aur log yah soch rahe hain log ab door se hee namaste kar lete hain aur ham aur sab ne apane haathon ko baar-baar dhona chaaloo kar diya sainitaijar lagaana seekh gae mat lagaana seekh gae soshal distensing seekh gae aur ham log aise gae ki bina baahar jae bhee ghar mein raha ja sakata hai aur ghar mein hee bina baahar kee cheejen khaen ghar mein bhee ham banaakar kha sakate hain yah sab baaten koronaavaayaras ke kaaran logon ne seekh liya hai aur apane aap ko badal liya hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कोरोनावायरस के कारण लोगों ने खुद को कैसे बदल दिया, लोगों ने खुद को कैसे बदल दिया
URL copied to clipboard