#undefined

bolkar speaker

आंखों में भिन्न रोग क्यों होते हैं?

Aankhon Mein Bhinn Rog Kyun Hote Hain
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:52
आंखों में भिन्न रो क्यों होते हैं देखिए भैया रात भी हमारे शरीर का एक हिस्सा होता है और हमारा एक संसार गन होता है और जो कुछ भी हम खाते पीते हैं तो निश्चित तौर पर उस कमी पूरा होता है खासकर के लिए विटामिन की कमी हो जाती है तो रातों दी रोग हो जाता अब विटामिन है जो है एक प्रकार का डाइटिंग है अब इसमें हरी पत्तेदार सब्जियां है गाजर पालक से मिला में शिया गाजर में सबसे ज्यादा पाया जाता है अब इन सब चीजों को आप नहीं खाएंगे या कम खाएंगे तो अभी टाइम है कि कम जरूरी होगी निश्चित तौर पर आपको आंखों का रोग होने लगेगा तो यार 2 दिन हो गए अच्छी तरह से प्रभावित करता है आपको और इसके अलावा और भी बहुत सारे लोग हैं वह अलग अलग ढंग से होते हैं अलग कर कर हो जाता है और निश्चित तौर पर इन लोगों को अलग आप देख लीजिए कि मोतियाबिंद का हो जाता है आंखों की रोशनी कम होने का कोई कारण हो सकता है मधुमेह रोगी जो होते हैं उनमें भी रेटिनोपैथी या ग्लूकोमा हो जाता है या मोतियाबिंद हो जाता है यह अभी उनके अंदर ज्यादा बढ़ जाता है खास करके शुगर लेवल ब्लड में और वहां पहुंचता है तो निश्चित तौर पर मधुमेह रोगियों को आप देखिए रेटिना पर थी और जो ग्लूकोमा जैसी बीमारी का बढ़ जाता है और इस तरह से अलग-अलग रोग है मेरे भाई और अलग-अलग ढंग से इनका रोगों का इलाज भी होता है मोतिया बंद है और भी ठीक है और इसको आप को ध्यान में रखना पड़ेगा दूसरा है कि कभी-कभी हमारे रक्त संचार में सहयोग हो जाता है तो उसमें विकार आ जाता है को राइट से होती है या रेटिना में प्रॉब्लम हो जाता है हमारी जवनिया है उसमें प्रॉब्लम आ जाता है और आपने देखा कंजरवेटिव बीमारी होती है जो आंख में दुखने लगती है यह फेक सस्ती चीज होती है एक दूसरे के संपर्क में आने में हो जाता है और हमारी पलकें जो है कभी उसमें विकारा जाता है कभी हमने आंखों में चोट लग जाने के कारण से आ जाता है या मरे हाई में इन्फेक्शन के कारण से आ जाते हैं बीमारियां जो हमारे कह सकते हैं आंखों के लिए होती है
Aankhon mein bhinn ro kyon hote hain dekhie bhaiya raat bhee hamaare shareer ka ek hissa hota hai aur hamaara ek sansaar gan hota hai aur jo kuchh bhee ham khaate peete hain to nishchit taur par us kamee poora hota hai khaasakar ke lie vitaamin kee kamee ho jaatee hai to raaton dee rog ho jaata ab vitaamin hai jo hai ek prakaar ka daiting hai ab isamen haree pattedaar sabjiyaan hai gaajar paalak se mila mein shiya gaajar mein sabase jyaada paaya jaata hai ab in sab cheejon ko aap nahin khaenge ya kam khaenge to abhee taim hai ki kam jarooree hogee nishchit taur par aapako aankhon ka rog hone lagega to yaar 2 din ho gae achchhee tarah se prabhaavit karata hai aapako aur isake alaava aur bhee bahut saare log hain vah alag alag dhang se hote hain alag kar kar ho jaata hai aur nishchit taur par in logon ko alag aap dekh leejie ki motiyaabind ka ho jaata hai aankhon kee roshanee kam hone ka koee kaaran ho sakata hai madhumeh rogee jo hote hain unamen bhee retinopaithee ya glookoma ho jaata hai ya motiyaabind ho jaata hai yah abhee unake andar jyaada badh jaata hai khaas karake shugar leval blad mein aur vahaan pahunchata hai to nishchit taur par madhumeh rogiyon ko aap dekhie retina par thee aur jo glookoma jaisee beemaaree ka badh jaata hai aur is tarah se alag-alag rog hai mere bhaee aur alag-alag dhang se inaka rogon ka ilaaj bhee hota hai motiya band hai aur bhee theek hai aur isako aap ko dhyaan mein rakhana padega doosara hai ki kabhee-kabhee hamaare rakt sanchaar mein sahayog ho jaata hai to usamen vikaar aa jaata hai ko rait se hotee hai ya retina mein problam ho jaata hai hamaaree javaniya hai usamen problam aa jaata hai aur aapane dekha kanjaravetiv beemaaree hotee hai jo aankh mein dukhane lagatee hai yah phek sastee cheej hotee hai ek doosare ke sampark mein aane mein ho jaata hai aur hamaaree palaken jo hai kabhee usamen vikaara jaata hai kabhee hamane aankhon mein chot lag jaane ke kaaran se aa jaata hai ya mare haee mein inphekshan ke kaaran se aa jaate hain beemaariyaan jo hamaare kah sakate hain aankhon ke lie hotee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आंखों में भिन्न रोग क्यों होते हैं?Aankhon Mein Bhinn Rog Kyun Hote Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:35
हेलो एवरीवन तू आज आपका सवाल है कि आंखों में भिन्न लोग क्यों होते हैं तो उसके आंख होता वह बहुत ही सेंसिटिव होता है और हमेशा मतलब एक सोने को छोड़कर हमेशा वह खुला रहता है तो खुला रहता मतलब कि वह हमेशा काम ही कर रहा होता है दर्द से फंक्शन से लाइट से जो भी चीज गिरता है आज में फिर उसके बाद पैसे बहुत सारी चीजों का आंखों सामना करना पड़ता है कितना सेंसिटिव भी होता है तो इस वजह से बहुत प्रकार की बीमारियां और बहुत तरह के मतलब रोग आपको आंख में ही मतलब देखने के लिए मिलता है
Helo evareevan too aaj aapaka savaal hai ki aankhon mein bhinn log kyon hote hain to usake aankh hota vah bahut hee sensitiv hota hai aur hamesha matalab ek sone ko chhodakar hamesha vah khula rahata hai to khula rahata matalab ki vah hamesha kaam hee kar raha hota hai dard se phankshan se lait se jo bhee cheej girata hai aaj mein phir usake baad paise bahut saaree cheejon ka aankhon saamana karana padata hai kitana sensitiv bhee hota hai to is vajah se bahut prakaar kee beemaariyaan aur bahut tarah ke matalab rog aapako aankh mein hee matalab dekhane ke lie milata hai

bolkar speaker
आंखों में भिन्न रोग क्यों होते हैं?Aankhon Mein Bhinn Rog Kyun Hote Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:16
हेलो एवरीवन आपका पुलिस ने आंखों में भिन्न रूप क्यों होते हैं तो आंख भी हमारे शरीर का एक हिस्सा है जैसे हमारे शरीर के अन्य हिस्सों में किसी विटामिंस की कमी के कारण यह रोग हो जाते हैं वैसे ही आंख में भी रोग हो जाते हैं तो आंखों में सबसे ज्यादा विटामिन ए की कमी के कारण रोग हो जाते हैं विटामिन ए हमें मिलता है पालक गाजर हरी पत्तेदार सब्जियां शिमला मिर्च पत्ता गोभी खाने से विटामिन मिलता है अब जो व्यक्ति ज्यादा हरी पत्तेदार सब्जियां सब नहीं खाता तो उसे विटामिन ए की कमी हो जाती है और आंखों में रोग हो जाते हैं एटामिन एक ही कमी है तो हमें विटामिन खाना चाहिए जिससे हमें आंखों में रोग ना हो और दूसरी बात जो डायबिटिक पेशेंट होते हैं उनकी आंखें भी कमजोर हो जाती हैं उन्हें भी आंखों में कम दिखाई देने लगता है और भी दामिनी की कमी से रतौंधी रोग होता है और डायबिटिक पेशेंट तुमको नजर कमजोर होने का रोग हो जाता है यही सब बीमारियां हैं जो आंखों में हो जाती हैं तो इनसे बचने के लिए हमें अच्छा खानपान रखना है तो जवाब पसंद आए तो लाइक कीजिएगा धन्यवाद
Helo evareevan aapaka pulis ne aankhon mein bhinn roop kyon hote hain to aankh bhee hamaare shareer ka ek hissa hai jaise hamaare shareer ke any hisson mein kisee vitaamins kee kamee ke kaaran yah rog ho jaate hain vaise hee aankh mein bhee rog ho jaate hain to aankhon mein sabase jyaada vitaamin e kee kamee ke kaaran rog ho jaate hain vitaamin e hamen milata hai paalak gaajar haree pattedaar sabjiyaan shimala mirch patta gobhee khaane se vitaamin milata hai ab jo vyakti jyaada haree pattedaar sabjiyaan sab nahin khaata to use vitaamin e kee kamee ho jaatee hai aur aankhon mein rog ho jaate hain etaamin ek hee kamee hai to hamen vitaamin khaana chaahie jisase hamen aankhon mein rog na ho aur doosaree baat jo daayabitik peshent hote hain unakee aankhen bhee kamajor ho jaatee hain unhen bhee aankhon mein kam dikhaee dene lagata hai aur bhee daaminee kee kamee se rataundhee rog hota hai aur daayabitik peshent tumako najar kamajor hone ka rog ho jaata hai yahee sab beemaariyaan hain jo aankhon mein ho jaatee hain to inase bachane ke lie hamen achchha khaanapaan rakhana hai to javaab pasand aae to laik keejiega dhanyavaad

bolkar speaker
आंखों में भिन्न रोग क्यों होते हैं?Aankhon Mein Bhinn Rog Kyun Hote Hain
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:36
10 वाले की आंखों में देंगे क्यों आते हैं तो कांच बिंदु रोग या काला मोतिया मित्र कार हो गई है रोग नेत्र के गंभीर और नेत्र शक्ति करते हुए धीरे-धीरे दृष्टि को समाप्त कर देता है किसी वस्तु से प्रकाश की किरण आंखों तक पहुंचती है वह इसकी छवि जस्टिस नेट पर बनाती है इसलिए आंखों में भिन्न-भिन्न प्रकार के रोग होते हैं देना
10 vaale kee aankhon mein denge kyon aate hain to kaanch bindu rog ya kaala motiya mitr kaar ho gaee hai rog netr ke gambheer aur netr shakti karate hue dheere-dheere drshti ko samaapt kar deta hai kisee vastu se prakaash kee kiran aankhon tak pahunchatee hai vah isakee chhavi jastis net par banaatee hai isalie aankhon mein bhinn-bhinn prakaar ke rog hote hain dena

bolkar speaker
आंखों में भिन्न रोग क्यों होते हैं?Aankhon Mein Bhinn Rog Kyun Hote Hain
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:39
आंखों में विभिन्न रोग इसलिए होते हैं क्योंकि हमारे शरीर में प्रोटीन विटामिन की कमी होने लगती है सब कुछ क्या है पूरा शरीर है वह प्रोटीन विटामिन और मिनरल्स का ही बना हुआ अगर शरीर में विटामिन ए बी कम होने लगे बीपी कम होने लगे जो शरीर को दिमाग को ताकत देता विटामिन बी टवाल omega-3 भी कम होने लगे जो माइंड को बहुत ज्यादा ताकत देता है तो माइंड में क्या है आपके आपके मस्तिष्क में तो सारा नर्वस सिस्टम है ना से जुड़ा हुआ रत्नस जो आपको माइंड से जुड़ा हुआ है और माइंड करना जो आज से जुड़ा हुआ है तो जब आपके दिमाग को बल नहीं मिलेगा आप से मस्तिष्क को बल नहीं मिलेगा तो जो आपका आई से जुड़ा बना से उसको कैसे बल मिलेगा तो हमारे माइंड को अच्छाबल मिले हमारे आई से जुड़े हुए नर्वस सिस्टम को अच्छा बाली मिले इसके लिए शरीर में अच्छा ऑप्टिमम लेवल में आपको सारा कुछ चाहिए हो गया तीनों की हड्डी हो गया जी हो गया इसका लेवल अच्छा रखना बहुत जरूरी है उनकी कमी है तो फिर हाथ में विभिन्न तरह के रोग होना शुरू होते हैं सारा कुछ आपके दिमाग से सारे शरीर से आपको जुड़ा हुआ लिंक है लीवर का प्रॉब्लम होगा तो डाइजेशन आपको अच्छा नहीं होगा डाइजेशन अच्छा नहीं होगा तो खाना नहीं पहुंचेगा तो आपके बॉडी में एनर्जी प्रोड्यूसर नहीं होगा एनर्जी प्रोड्यूसर नहीं होगा तो आपके फ्रेंड को ताकत नहीं मिलेगा तो सारा कुछ एक दूसरे से इंटरलिंक है बस हम लोगों को समझना है
Aankhon mein vibhinn rog isalie hote hain kyonki hamaare shareer mein proteen vitaamin kee kamee hone lagatee hai sab kuchh kya hai poora shareer hai vah proteen vitaamin aur minarals ka hee bana hua agar shareer mein vitaamin e bee kam hone lage beepee kam hone lage jo shareer ko dimaag ko taakat deta vitaamin bee tavaal omaig-3 bhee kam hone lage jo maind ko bahut jyaada taakat deta hai to maind mein kya hai aapake aapake mastishk mein to saara narvas sistam hai na se juda hua ratnas jo aapako maind se juda hua hai aur maind karana jo aaj se juda hua hai to jab aapake dimaag ko bal nahin milega aap se mastishk ko bal nahin milega to jo aapaka aaee se juda bana se usako kaise bal milega to hamaare maind ko achchhaabal mile hamaare aaee se jude hue narvas sistam ko achchha baalee mile isake lie shareer mein achchha optimam leval mein aapako saara kuchh chaahie ho gaya teenon kee haddee ho gaya jee ho gaya isaka leval achchha rakhana bahut jarooree hai unakee kamee hai to phir haath mein vibhinn tarah ke rog hona shuroo hote hain saara kuchh aapake dimaag se saare shareer se aapako juda hua link hai leevar ka problam hoga to daijeshan aapako achchha nahin hoga daijeshan achchha nahin hoga to khaana nahin pahunchega to aapake bodee mein enarjee prodyoosar nahin hoga enarjee prodyoosar nahin hoga to aapake phrend ko taakat nahin milega to saara kuchh ek doosare se intaralink hai bas ham logon ko samajhana hai

bolkar speaker
आंखों में भिन्न रोग क्यों होते हैं?Aankhon Mein Bhinn Rog Kyun Hote Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:08
हरा कशिश ने हाथों में बैनर होगा क्यों होते हैं तो आपको बता देंगे किस रोग से आंखों के हो या शरीर के तभी होते हैं जब हम अपने स्वास्थ्य के प्रति यह अपने जो हमारे रूटीन है उसे लापरवाह हो जाते हैं हम अपनी बॉडी का ख्याल नहीं रखते हैं तब हमें विभिन्न प्रकार के रूप में लेते हैं तो ऐसी स्थिति में कोशिश करनी चाहिए आपको कि अपने अंगों का अपनी बॉडी का ख्याल रखें तभी आपके जो बॉडी है आपका साथ देगी जैसे मशीन होती है ना यह कमल हीरो बाइक है कार है अगर आप उस को नियमित रूप से सर्विस करवाते रहेंगे ठीक करवाते रहेंगे तभी वह सही चलेगी अगर आप पूछते सोचे कि एक बार हमने खरीद लिया और अब इसमें कुछ भी करवाने की आवश्यकता नहीं है ना हवा डलवा देना पेट्रोल डलवा रहे हैं तो वह खड़ी हो जाएगी तो इसलिए आप अगर यह मानकर चलें कि आपकी जो बॉडी है वह भी एक तरह की मशीनरी है और उसकी भी दे गाना को करनी है उसकी भी सर्विसिंग चाहिए तो आप किसी भी प्रकार के रोग से बचे रहेंगे मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Hara kashish ne haathon mein bainar hoga kyon hote hain to aapako bata denge kis rog se aankhon ke ho ya shareer ke tabhee hote hain jab ham apane svaasthy ke prati yah apane jo hamaare rooteen hai use laaparavaah ho jaate hain ham apanee bodee ka khyaal nahin rakhate hain tab hamen vibhinn prakaar ke roop mein lete hain to aisee sthiti mein koshish karanee chaahie aapako ki apane angon ka apanee bodee ka khyaal rakhen tabhee aapake jo bodee hai aapaka saath degee jaise masheen hotee hai na yah kamal heero baik hai kaar hai agar aap us ko niyamit roop se sarvis karavaate rahenge theek karavaate rahenge tabhee vah sahee chalegee agar aap poochhate soche ki ek baar hamane khareed liya aur ab isamen kuchh bhee karavaane kee aavashyakata nahin hai na hava dalava dena petrol dalava rahe hain to vah khadee ho jaegee to isalie aap agar yah maanakar chalen ki aapakee jo bodee hai vah bhee ek tarah kee masheenaree hai aur usakee bhee de gaana ko karanee hai usakee bhee sarvising chaahie to aap kisee bhee prakaar ke rog se bache rahenge main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आंखों में भिन्न रोग क्यों होते हैं आंखों में भिन्न रोग
URL copied to clipboard