#जीवन शैली

bolkar speaker

एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है?

Ek Aam Insan Ke Lie Faishon Kya Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:54
312 आज आपने सवाल है कि एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है इंसान के लिए फैशन मतलब बहुत बड़ी बात होती है क्योंकि हर एक चीज खरीदना फिर पता होना और करना कि किस तरह से कैसे उसको यूज करना है कब कहां पर किस तरह के मेकअप किस तरह से शासन को लेकर चलना है अजय जी की बहुत बड़ी क्या-क्या होता है इस फंक्शन में आपको इस तरह की स्टाइल के चलते कभी उस तरह के स्टाइलिश और आजकल इतना मतलब है अगर आप कोई भी चीज अगर इलेक्ट्रिक स्टीयरिंग के भी बारे में सोचेंगे तो आजकल वह बहुत महंगा हो गया तो इतना सजना सवरना और टीवी में जिस तरह से देखना है कि लोग कितने फैशनेबल है उस तरह से बना आम आदमी के लिए बहुत बड़ी बात होती है और हर एक इंसान नहीं कर पाता है
312 aaj aapane savaal hai ki ek aam insaan ke lie phaishan kya hai insaan ke lie phaishan matalab bahut badee baat hotee hai kyonki har ek cheej khareedana phir pata hona aur karana ki kis tarah se kaise usako yooj karana hai kab kahaan par kis tarah ke mekap kis tarah se shaasan ko lekar chalana hai ajay jee kee bahut badee kya-kya hota hai is phankshan mein aapako is tarah kee stail ke chalate kabhee us tarah ke stailish aur aajakal itana matalab hai agar aap koee bhee cheej agar ilektrik steeyaring ke bhee baare mein sochenge to aajakal vah bahut mahanga ho gaya to itana sajana savarana aur teevee mein jis tarah se dekhana hai ki log kitane phaishanebal hai us tarah se bana aam aadamee ke lie bahut badee baat hotee hai aur har ek insaan nahin kar paata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है?Ek Aam Insan Ke Lie Faishon Kya Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:02
राधा कृष्ण एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है तो देखिए यहां पर जिस समाज में हम रहते हैं तो ऐसे समाज में कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनको ठीक से कपड़े भी पहनना नसीब नहीं होता है कुछ इतने अंदर पहले लोग होते हैं कि उनको यहां पर अगर जो मिल जाए वही पहन लेते हैं ऐसे में एक आम इंसान की अगर बात की जाए तो वह फैशन में बहुत ज्यादा ध्यान नहीं देता है वह सिर्फ अपने कपड़े पहनने पर ही ध्यान देता है क्या उसको कपड़े मिलते रहे बस वो पहनता रहे जब आप अपने को लेकर बहुत ज्यादा कंसर्न होते हैं अपनी पर्सनैलिटी को इंप्रोवाइज करना चाहते हैं प्रूफ करना चाहते हैं तब अपने परिधानों की ओर आपका ध्यान आता है और आप उसको और बैटर करने की कोशिश करते हैं अच्छे कंट्रास्ट कलर पहनना पसंद करते हैं तब यह सारी चीजें आती हैं आप ही कह रहे हैं इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं आपके साथ है धन्यवाद
Raadha krshn ek aam insaan ke lie phaishan kya hai to dekhie yahaan par jis samaaj mein ham rahate hain to aise samaaj mein kuchh log aise bhee hain jinako theek se kapade bhee pahanana naseeb nahin hota hai kuchh itane andar pahale log hote hain ki unako yahaan par agar jo mil jae vahee pahan lete hain aise mein ek aam insaan kee agar baat kee jae to vah phaishan mein bahut jyaada dhyaan nahin deta hai vah sirph apane kapade pahanane par hee dhyaan deta hai kya usako kapade milate rahe bas vo pahanata rahe jab aap apane ko lekar bahut jyaada kansarn hote hain apanee parsanailitee ko improvaij karana chaahate hain prooph karana chaahate hain tab apane paridhaanon kee or aapaka dhyaan aata hai aur aap usako aur baitar karane kee koshish karate hain achchhe kantraast kalar pahanana pasand karate hain tab yah saaree cheejen aatee hain aap hee kah rahe hain is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen main aapake saath hai dhanyavaad

bolkar speaker
एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है?Ek Aam Insan Ke Lie Faishon Kya Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:01
मैं एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है फ्रेंड क्या है कि आम इंसान के लिए बस यही होता है कि हम अपने शरीर को ढकने की बात करें वही हमारा फैशन होता है हमारा अगर शरीर अच्छी तरीके से ढका हुआ है हम एक सुंदर अच्छे कपड़े पहने हुए हैं तू ही लगता है कि हमारा एक फैशन है उन्हें बहुत ज्यादा अट्रैक्टिव बहुत ज्यादा फैशन वाले बहुत ज्यादा कलरफुल वाले कपड़े नहीं आते हैं आम इंसान को बस सिंपल्स का सिंपल सा कपड़ा होता है जो साफ हो सुंदर हो और क्या हो कि वह कपड़े अपने शरीर को ढकने के काम में इस्तेमाल करते हैं ना कि वह फैशन के रूप में इस्तेमाल करते हैं तो हर एक आम इंसान होता है बस अपने शरीर को ढकने के लिए वह कपड़ा पहनता है और फैशन की बात करें तो ज्यादा फैशन नहीं करता है और अपनी दिनचर्या में एकदम सिंपल लाइफ जीने की कोशिश करता है जैसे कि किसी प्रकार की उसे दिक्कत है आप कोई समाज में उसकी बुराई ना कर सके
Main ek aam insaan ke lie phaishan kya hai phrend kya hai ki aam insaan ke lie bas yahee hota hai ki ham apane shareer ko dhakane kee baat karen vahee hamaara phaishan hota hai hamaara agar shareer achchhee tareeke se dhaka hua hai ham ek sundar achchhe kapade pahane hue hain too hee lagata hai ki hamaara ek phaishan hai unhen bahut jyaada atraiktiv bahut jyaada phaishan vaale bahut jyaada kalaraphul vaale kapade nahin aate hain aam insaan ko bas simpals ka simpal sa kapada hota hai jo saaph ho sundar ho aur kya ho ki vah kapade apane shareer ko dhakane ke kaam mein istemaal karate hain na ki vah phaishan ke roop mein istemaal karate hain to har ek aam insaan hota hai bas apane shareer ko dhakane ke lie vah kapada pahanata hai aur phaishan kee baat karen to jyaada phaishan nahin karata hai aur apanee dinacharya mein ekadam simpal laiph jeene kee koshish karata hai jaise ki kisee prakaar kee use dikkat hai aap koee samaaj mein usakee buraee na kar sake

bolkar speaker
एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है?Ek Aam Insan Ke Lie Faishon Kya Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:00
वाले कामना के लिए फैशन क्या है भाई की मेहरबानी है जो हमारे पहनावे हैं तब में जो तरीके अपनाते हैं जो मैंने फैशन के जैसे कपड़े पहने नए फैशन के आगे जो भी चीजें आती है उसे खरीदना तो इसी फैशन समझ लेते हैं लेकिन कम होता है जो कि हर एक चीज में बदलाव आ रहा है जो मैंने आप चाहे वह कोई भी चीज हो गया टेक्निकल से लेकर के खान-पान से लेकर रहन-सहन तक हर एक चीज फैशन ही है तो मिलते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग खुश रहिए दूसरों को भी खुश रखो
Vaale kaamana ke lie phaishan kya hai bhaee kee meharabaanee hai jo hamaare pahanaave hain tab mein jo tareeke apanaate hain jo mainne phaishan ke jaise kapade pahane nae phaishan ke aage jo bhee cheejen aatee hai use khareedana to isee phaishan samajh lete hain lekin kam hota hai jo ki har ek cheej mein badalaav aa raha hai jo mainne aap chaahe vah koee bhee cheej ho gaya teknikal se lekar ke khaan-paan se lekar rahan-sahan tak har ek cheej phaishan hee hai to milate hain savaal ka javaab pasand aaega aap log khush rahie doosaron ko bhee khush rakho

bolkar speaker
एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है?Ek Aam Insan Ke Lie Faishon Kya Hai
Shakeel Hamad Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shakeel जी का जवाब
Unknown
0:06

bolkar speaker
एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है?Ek Aam Insan Ke Lie Faishon Kya Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:54
पीटी सबसे पहले फेसबुक शब्द की परिभाषा नोट करें फैशन एक तरीका है चाहे वह पहनावे में हो जाए तो देश में हो क्या बे जो आम लोगों से हटकर क्यों होता है फैशन इसलिए किया जाता है जिससे कि दूसरे लोग अट्रैक्टिव और उसके प्रति आकर्षण बड़े उसको परेशान कहते हैं दूसरी परिभाषा में हम कहें जो समाज की अन्य तौर तरीकों से एकदम भिन्न नोहटा हूं उसे इंप्रेशन कहते हैं यह सारे पैसों की जितने भी देना भी क्यों हूं एक्टिविटीज क्यों हो इस सारे हमारी फिल्म इंडस्ट्री से चलते हैं यूटीवी संस्कृति के द्वारा चलते हैं क्योंकि आज की जो हमारी युवा पीढ़ी है वह हमेशा फिल्मी एक्टर्स के प्रति आकर्षित रही है आपने देखा होगा कि पहले अमिताभ बच्चन जी ने लंबे कॉलर चलाई थी फिर विभिन्न राजेश खन्ना ने अलग बालों की कटिंग निकाली अमिताभ बच्चन ने अखबारों की कटिंग निकाली उनको देख देख कर के लड़के भी ऐसी चालू हो गई आज स्थिति यह है कि चाय बूढ़ा हो चुका है बालों को चमक पुरुषों की आदत फैशन में तुलना में 80 परसेंट लोकेशन में विशेष तौर से गांव में तो अभी उतना पैसा नहीं है काम कर लो वही सादा जीवन उच्च विचार के सिद्धांतों में अपनी पालन करते लेकिन शहरों में तू 80 पर सेंट आफ फैशन में रंगे हुए पाएंगे चाहे वह बुड्ढा हो जवान हो बालक को जब महिला हो या पुरुष कल परसों में जयपुर गया था मैं तो जयपुर में देखा तो सज्जन जो करीब में सोच उनकी अश्लील पिक्चर 3 साल की एज होगी लाल टीशर्ट और नीले रंग का यह तुम सोचो कि जो आदमी के पैर मृत्यु की खबर की ओर जा रहे हैं मृत्यु की ओर जा रहे हैं उनको इन पैसों से क्या लेना देना दर्शनिक युवावस्था तक आपके फैशन किए ठीक है उस समय तक आप विश्वास रखते थे दुनिया में थे लेकिन जैसे ही आप बांध भक्तों की उम्र को प्राप्त कर चुके हैं 50 को क्रॉस कर चुके हैं उसके बाद केवल आपको दिन दुनिया में से कोई मतलब नहीं होना चाहिए सिर्फ समाज सुधार के कार्य कीजिए पर आपका परिवार समाज के हित में कार्य कीजिए परोपकार के कार्य कीजिए और ईश्वर का ध्यान कीजिए उसके तक और कुछ नहीं है लेकिन आज स्थिति यह है कि आप इन पिक्चरों में इतना गंदा बात अमन कर दिया चार लड़कियां मुंह से बोल लड़की हूं उनके नेत्रों के अटपटे कपड़े अटपटे व्यवहार अटपटे आचरण देखने को मिलते हैं और टेंशन के नाम पर सब कुछ हो रहा है सब कुछ बिक रहा है
Peetee sabase pahale phesabuk shabd kee paribhaasha not karen phaishan ek tareeka hai chaahe vah pahanaave mein ho jae to desh mein ho kya be jo aam logon se hatakar kyon hota hai phaishan isalie kiya jaata hai jisase ki doosare log atraiktiv aur usake prati aakarshan bade usako pareshaan kahate hain doosaree paribhaasha mein ham kahen jo samaaj kee any taur tareekon se ekadam bhinn nohata hoon use impreshan kahate hain yah saare paison kee jitane bhee dena bhee kyon hoon ektiviteej kyon ho is saare hamaaree philm indastree se chalate hain yooteevee sanskrti ke dvaara chalate hain kyonki aaj kee jo hamaaree yuva peedhee hai vah hamesha philmee ektars ke prati aakarshit rahee hai aapane dekha hoga ki pahale amitaabh bachchan jee ne lambe kolar chalaee thee phir vibhinn raajesh khanna ne alag baalon kee kating nikaalee amitaabh bachchan ne akhabaaron kee kating nikaalee unako dekh dekh kar ke ladake bhee aisee chaaloo ho gaee aaj sthiti yah hai ki chaay boodha ho chuka hai baalon ko chamak purushon kee aadat phaishan mein tulana mein 80 parasent lokeshan mein vishesh taur se gaanv mein to abhee utana paisa nahin hai kaam kar lo vahee saada jeevan uchch vichaar ke siddhaanton mein apanee paalan karate lekin shaharon mein too 80 par sent aaph phaishan mein range hue paenge chaahe vah buddha ho javaan ho baalak ko jab mahila ho ya purush kal parason mein jayapur gaya tha main to jayapur mein dekha to sajjan jo kareeb mein soch unakee ashleel pikchar 3 saal kee ej hogee laal teeshart aur neele rang ka yah tum socho ki jo aadamee ke pair mrtyu kee khabar kee or ja rahe hain mrtyu kee or ja rahe hain unako in paison se kya lena dena darshanik yuvaavastha tak aapake phaishan kie theek hai us samay tak aap vishvaas rakhate the duniya mein the lekin jaise hee aap baandh bhakton kee umr ko praapt kar chuke hain 50 ko kros kar chuke hain usake baad keval aapako din duniya mein se koee matalab nahin hona chaahie sirph samaaj sudhaar ke kaary keejie par aapaka parivaar samaaj ke hit mein kaary keejie paropakaar ke kaary keejie aur eeshvar ka dhyaan keejie usake tak aur kuchh nahin hai lekin aaj sthiti yah hai ki aap in pikcharon mein itana ganda baat aman kar diya chaar ladakiyaan munh se bol ladakee hoon unake netron ke atapate kapade atapate vyavahaar atapate aacharan dekhane ko milate hain aur tenshan ke naam par sab kuchh ho raha hai sab kuchh bik raha hai

bolkar speaker
एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है?Ek Aam Insan Ke Lie Faishon Kya Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:27
आम आदमी के लिए फैशन क्या यह प्रश्न का उत्तर बैठाई है कि समाज जैसे-जैसे आगे बढ़ता है और सकता के अनुसार पुराने प्रचलन नवीन स्वरूप धारण कर लेते जैसे पहले लो अंगवस्त्रम के रूप में हो ऊपर एक कपड़ा लपेट लेते थे नीचे लपेट लेते थे यादव वस्त्रों और दोस्त धीरे-धीरे सिले कपड़े पहनने लगे तो मुसलमानों के संपर्क से कुर्ता पायजामा या उससे पहले कुर्ता धोती इस तरह के कपड़े आए जिन्हें बांधने लगे और फिर अंग्रेजों के संपर्क से पेंट शर्ट इसी तरह स्त्रियां साड़ी से सूट में आई और अब जींस और जींस के बनियान और पैंट में आ गए हैं हेलो अरोरा पर और धीरे-धीरे अब इसमें भी आप देखें तो इस साथ में चलने लगे हैं तो आम आदमी के लिए फैशन क्या है देखिए एक तो एक दिखावा भी बन चुका है आधुनिक बनने का और दूसरा सुविधाएं भी है जैसे ब्याज दरों में सूट पहनना इसलिए पसंद करती हैं किस से उन्हें काम करने में आसानी होती है या किसी महिला जिसे ज्यादा पर्दा नहीं करना है अगर उसके बच्चे पैदा होते हैं तो जिसे बनियान पहनना पसंद करती क्योंकि बनियान से बच्चों की फीडिंग थोड़ी आसान होती है लेकिन यह भी सच है कि कुछ दिखावे के तौर पर भी से पहनते हैं जितनी जरूरत नहीं होती है समझे आप आज महिलाओं का दुपट्टा जो है वह हटता जा रहा है या कपड़े उनके साथ होते जा रहे हैं एक प्रकार का फैशन है और यह धीरे-धीरे गरीबों तक पहुंच रहा है आम आदमी तक पहुंच रहा है गांव तक पहुंच रहा है और गांव में मैं भी दिखा भी की प्रवृत्ति जो है बढ़ती जा रही है शादी ब्याह के अलावा अब तो हर रोज एक फंक्शन ऐसा ही होता है पहले आदमी महीने 2 महीने में अपने परिवार को कभी बाजार लेकर जाता था अब हर गांव जो है वह बाजार से जुड़ चुका इतने संसाधन है मोटरसाइकिल एम ओ पर ऐसी थ्री व्हीलर सरकारें हैं बसें चलने लगी है तो लोग शहरों तक खूब जा रहे हैं और बन ठन करके जानते ब्यूटी पार्लर अब केवल शहर की लड़कियां महिलाएं नहीं गांव की बच्ची हमें कर रही है तो आम आदमी के लिए फैशन मेरे विचार से एक दिखावा है और शायद मॉडर्न जिंदगी जीने की एक लड़का है हर कोई मारने जिंदगी को एक स्तर बहुत का पैमाना समझने लगा थैंक यू
Aam aadamee ke lie phaishan kya yah prashn ka uttar baithaee hai ki samaaj jaise-jaise aage badhata hai aur sakata ke anusaar puraane prachalan naveen svaroop dhaaran kar lete jaise pahale lo angavastram ke roop mein ho oopar ek kapada lapet lete the neeche lapet lete the yaadav vastron aur dost dheere-dheere sile kapade pahanane lage to musalamaanon ke sampark se kurta paayajaama ya usase pahale kurta dhotee is tarah ke kapade aae jinhen baandhane lage aur phir angrejon ke sampark se pent shart isee tarah striyaan sari se soot mein aaee aur ab jeens aur jeens ke baniyaan aur paint mein aa gae hain helo arora par aur dheere-dheere ab isamen bhee aap dekhen to is saath mein chalane lage hain to aam aadamee ke lie phaishan kya hai dekhie ek to ek dikhaava bhee ban chuka hai aadhunik banane ka aur doosara suvidhaen bhee hai jaise byaaj daron mein soot pahanana isalie pasand karatee hain kis se unhen kaam karane mein aasaanee hotee hai ya kisee mahila jise jyaada parda nahin karana hai agar usake bachche paida hote hain to jise baniyaan pahanana pasand karatee kyonki baniyaan se bachchon kee pheeding thodee aasaan hotee hai lekin yah bhee sach hai ki kuchh dikhaave ke taur par bhee se pahanate hain jitanee jaroorat nahin hotee hai samajhe aap aaj mahilaon ka dupatta jo hai vah hatata ja raha hai ya kapade unake saath hote ja rahe hain ek prakaar ka phaishan hai aur yah dheere-dheere gareebon tak pahunch raha hai aam aadamee tak pahunch raha hai gaanv tak pahunch raha hai aur gaanv mein main bhee dikha bhee kee pravrtti jo hai badhatee ja rahee hai shaadee byaah ke alaava ab to har roj ek phankshan aisa hee hota hai pahale aadamee maheene 2 maheene mein apane parivaar ko kabhee baajaar lekar jaata tha ab har gaanv jo hai vah baajaar se jud chuka itane sansaadhan hai motarasaikil em o par aisee three vheelar sarakaaren hain basen chalane lagee hai to log shaharon tak khoob ja rahe hain aur ban than karake jaanate byootee paarlar ab keval shahar kee ladakiyaan mahilaen nahin gaanv kee bachchee hamen kar rahee hai to aam aadamee ke lie phaishan mere vichaar se ek dikhaava hai aur shaayad modarn jindagee jeene kee ek ladaka hai har koee maarane jindagee ko ek star bahut ka paimaana samajhane laga thaink yoo

bolkar speaker
एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है?Ek Aam Insan Ke Lie Faishon Kya Hai
Kanhiya Awasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Kanhiya जी का जवाब
Student
0:15
प्रश्न एक आम इंसान के लिए पहचान क्या है आम इंसान के लिए फैशन उसका ज्ञान है क्या न्यूज़ है और सब तो दिखाऊंगा
Prashn ek aam insaan ke lie pahachaan kya hai aam insaan ke lie phaishan usaka gyaan hai kya nyooz hai aur sab to dikhaoonga

bolkar speaker
एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है?Ek Aam Insan Ke Lie Faishon Kya Hai
mahendra meena Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mahendra जी का जवाब
Unknown
1:08
आपका सवाल है एक आम इंसान के लिए फैशन किया है रिकॉम इंसान के लिए फैशन दर्शन हमारा कार्य कार्य से हमें एक अच्छा जीवन मिलता है तो आम इंसान के लिए उसका कार्य उसकी फैशन और आम इंसान के लिए उसका करेक्टर वह और भी ज्यादा फैशन है वह अपने कक्ष को सही बनाने में लगे रहते हैं एक आम इंसान के लिए अपना कार्य और कलेक्टर बिग फैशन अभी कोई आम इंसान नहीं है मुझे कोई अमीर है तो ओपन करके और ज्यादा नहीं देगा 265 पीछे भागेगा
Aapaka savaal hai ek aam insaan ke lie phaishan kiya hai rikom insaan ke lie phaishan darshan hamaara kaary kaary se hamen ek achchha jeevan milata hai to aam insaan ke lie usaka kaary usakee phaishan aur aam insaan ke lie usaka karektar vah aur bhee jyaada phaishan hai vah apane kaksh ko sahee banaane mein lage rahate hain ek aam insaan ke lie apana kaary aur kalektar big phaishan abhee koee aam insaan nahin hai mujhe koee ameer hai to opan karake aur jyaada nahin dega 265 peechhe bhaagega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • एक आम इंसान के लिए फैशन क्या है आम इंसान के लिए फैशन
URL copied to clipboard