#मनोरंजन

bolkar speaker

राष्ट्रगीत किस किसने गाया था?

Rashtrageet Kis Kisne Gaya Tha
Srishti Mehrotra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Srishti जी का जवाब
Unknown
0:34
राष्ट्रीय गीत किसने गाया था भारत का राष्ट्रगीत वंदे मातरम है इसके रचयिता बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय हैं उन्होंने इस साल 18 सो 82 में संस्कृत भाषा में किया था यह स्वतंत्रता की लड़ाई में लोगों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत था इसीलिए भारत के राष्ट्रगान जन गण मन के बराबर का दर्जा प्राप्त है इसे पहली बार साल 18 सो 96 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सबसे मंगाया गया था राष्ट्रीय गीत की अवधि लगभग 52 सेकंड है
Raashtreey geet kisane gaaya tha bhaarat ka raashtrageet vande maataram hai isake rachayita bankimachandr chattopaadhyaay hain unhonne is saal 18 so 82 mein sanskrt bhaasha mein kiya tha yah svatantrata kee ladaee mein logon ke lie prerana ka strot tha iseelie bhaarat ke raashtragaan jan gan man ke baraabar ka darja praapt hai ise pahalee baar saal 18 so 96 mein bhaarateey raashtreey kaangres ke sabase mangaaya gaya tha raashtreey geet kee avadhi lagabhag 52 sekand hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
राष्ट्रगीत किस किसने गाया था?Rashtrageet Kis Kisne Gaya Tha
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
3:02
आपका प्रश्न है कि राष्ट्र गीत किसने गाया था तो इसमें आपने नहीं दिया कि पहली बार या दूसरी बार यह तीसरी बार देखिए 1842 में बंकिम चंद्र चटर्जी ने अपने उपन्यास आनंदमठ में से सम्मिलित किया था और यह संस्कृत और बांग्ला दोनों में लिखा गया था बाद में इसके दो छंदों को राष्ट्रीय गीत के रूप में स्वीकार किया गया यह गीत भवानंद नामक एक सन्यासी कोई थे जिन्होंने गाया था पहली बार और इसकी धुन यदुनाथ सरकार ने बनाई थी इसे गाने में कुल 65 सेकंड में 1 मिनट 5 सेकंड लगता है इसकी लोकप्रियता धीरे-धीरे बढ़ती गई और स्थिति यही कि कहा जाता है कि अंतरराष्ट्रीय धरातल पर जिन 10 गीतों का चयन किया गया उनमें अजीत लोकप्रियता की दृष्टि दूसरे नंबर पर आया था तो एंप्यूटीस गवर्नमेंट ने इसे रोक लगाने इस पर रोक लगाने के बाद की लेकिन अट्ठारह सौ 96 ईसवी में यह गीत भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में गाया गया था और उसे रवीना टैगोर ने स्वयं गाया था 1920 में कोलकाता में हुए एक अन्य अधिवेशन में श्री चरण दास ने भी इस गीत को गाया था और इसके बाद 1905 में बनारस के कांग्रेसी अधिवेशन में इसे पुणे सरला चौधरी सरला देवी चौधुरानी नामक महिला ने गाया था समझे आपने और जब संविधान की बात चली तो 1937 में एक मीटिंग हुई जिसमें पंडित जवाहरलाल नेहरू का अध्यक्ष थे और अब्दुल कलाम आजाद आदि उसके सदस्य थे तो यह बात तो ठीक है क्या इसे राष्ट्रीय गान माना जाए तो दिया गया कि नहीं जन गण मन अधिनायक जय है यह राष्ट्रीय गान तो हुए लेकिन वंदे मातरम और मोहम्मद इकबाल सारे जहां से अच्छा हिंदुस्ता हमारा को राखी गीत के रूप में स्वीकृति देने की बात कही गई अब दोनों को समकक्ष माना गया लेकिन जब भारत का संविधान बन रहा था तो संविधान सभा के सामने 14 जनवरी 1950 को संविधान सभा में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने इसे राष्ट्रीय गीत का दर्जा दिए जाने का एक वक्तव्य दिया और लोगों से राय मांगी गई तो करतल ध्वनि से इसे राष्ट्रीय गीत के रूप में स्वीकार किया गया और बाद में भारतीय संविधान में से राष्ट्रीय गान के बराबर शिक्षित किया गया इसके प्रारंभिक दो पदीची राष्ट्रगीत के रूप में स्वीकृत है जिसमें देश की वंदना की गई है बाकी जो आगे के 5 पद हैं उनमें धर्म जितनी बातें कही गई है इसलिए उसे इस से नहीं जोड़ा गया और प्रारंभिक 2 पदों को ही जो 1 मिनट 5 सेकंड में गाया जाता है स्वीकृति दी गई है थैंक यू
Aapaka prashn hai ki raashtr geet kisane gaaya tha to isamen aapane nahin diya ki pahalee baar ya doosaree baar yah teesaree baar dekhie 1842 mein bankim chandr chatarjee ne apane upanyaas aanandamath mein se sammilit kiya tha aur yah sanskrt aur baangla donon mein likha gaya tha baad mein isake do chhandon ko raashtreey geet ke roop mein sveekaar kiya gaya yah geet bhavaanand naamak ek sanyaasee koee the jinhonne gaaya tha pahalee baar aur isakee dhun yadunaath sarakaar ne banaee thee ise gaane mein kul 65 sekand mein 1 minat 5 sekand lagata hai isakee lokapriyata dheere-dheere badhatee gaee aur sthiti yahee ki kaha jaata hai ki antararaashtreey dharaatal par jin 10 geeton ka chayan kiya gaya unamen ajeet lokapriyata kee drshti doosare nambar par aaya tha to empyootees gavarnament ne ise rok lagaane is par rok lagaane ke baad kee lekin atthaarah sau 96 eesavee mein yah geet bhaarateey raashtreey kaangres ke kalakatta adhiveshan mein gaaya gaya tha aur use raveena taigor ne svayan gaaya tha 1920 mein kolakaata mein hue ek any adhiveshan mein shree charan daas ne bhee is geet ko gaaya tha aur isake baad 1905 mein banaaras ke kaangresee adhiveshan mein ise pune sarala chaudharee sarala devee chaudhuraanee naamak mahila ne gaaya tha samajhe aapane aur jab sanvidhaan kee baat chalee to 1937 mein ek meeting huee jisamen pandit javaaharalaal neharoo ka adhyaksh the aur abdul kalaam aajaad aadi usake sadasy the to yah baat to theek hai kya ise raashtreey gaan maana jae to diya gaya ki nahin jan gan man adhinaayak jay hai yah raashtreey gaan to hue lekin vande maataram aur mohammad ikabaal saare jahaan se achchha hindusta hamaara ko raakhee geet ke roop mein sveekrti dene kee baat kahee gaee ab donon ko samakaksh maana gaya lekin jab bhaarat ka sanvidhaan ban raha tha to sanvidhaan sabha ke saamane 14 janavaree 1950 ko sanvidhaan sabha mein doktar raajendr prasaad ne ise raashtreey geet ka darja die jaane ka ek vaktavy diya aur logon se raay maangee gaee to karatal dhvani se ise raashtreey geet ke roop mein sveekaar kiya gaya aur baad mein bhaarateey sanvidhaan mein se raashtreey gaan ke baraabar shikshit kiya gaya isake praarambhik do padeechee raashtrageet ke roop mein sveekrt hai jisamen desh kee vandana kee gaee hai baakee jo aage ke 5 pad hain unamen dharm jitanee baaten kahee gaee hai isalie use is se nahin joda gaya aur praarambhik 2 padon ko hee jo 1 minat 5 sekand mein gaaya jaata hai sveekrti dee gaee hai thaink yoo

bolkar speaker
राष्ट्रगीत किस किसने गाया था?Rashtrageet Kis Kisne Gaya Tha
Sandeep chhipa Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sandeep जी का जवाब
social worker (MSW)
0:55
राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम श्री बकिम चंद्र चटर्जी द्वारा लिखित है वंदे मातरम गीत राष्ट्रीय नीति राष्ट्रीय गीत के रूप में 24 जनवरी 1950 को अपनाया गया यह गीत बंकिम चंद्र चटर्जी के प्रसिद्ध उपन्यास आनंदमठ से लिया गया है यह गीत सर्वप्रथम अट्ठारह सौ 96 ईसवी में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में गाया गया था राष्ट्रीय गीत का अनुवाद अंग्रेजी अनुवाद श्री अरविंदो घोष ने किया था राष्ट्रीय गीत को गाने का समय 1 मिनट 5 सेकंड का है इस गीत की रचना सन 18 सो 74 में हुई थी इसे राष्ट्रगीत को राष्ट्रीय गान के सम्मान के गौरव का प्रदान किया गया यह हमारे राष्ट्रीय गीत की कुछ साधारण बातें थी मैंने आपको बताई अपना कमेंट बॉक्स में लिखें और लाइक सब्सक्राइब जरूर करें जय हिंद
Raashtreey geet vande maataram shree bakim chandr chatarjee dvaara likhit hai vande maataram geet raashtreey neeti raashtreey geet ke roop mein 24 janavaree 1950 ko apanaaya gaya yah geet bankim chandr chatarjee ke prasiddh upanyaas aanandamath se liya gaya hai yah geet sarvapratham atthaarah sau 96 eesavee mein bhaarateey raashtreey kaangres ke adhiveshan mein gaaya gaya tha raashtreey geet ka anuvaad angrejee anuvaad shree aravindo ghosh ne kiya tha raashtreey geet ko gaane ka samay 1 minat 5 sekand ka hai is geet kee rachana san 18 so 74 mein huee thee ise raashtrageet ko raashtreey gaan ke sammaan ke gaurav ka pradaan kiya gaya yah hamaare raashtreey geet kee kuchh saadhaaran baaten thee mainne aapako bataee apana kament boks mein likhen aur laik sabsakraib jaroor karen jay hind

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • राष्ट्रगीत किस किसने गाया था राष्ट्रीय गीत का गायक कौन है
URL copied to clipboard