#undefined

bolkar speaker

आचार जैसे खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते?

Achar Jaise Khatte Padarth Peetal Tamba Ke Bartnon Mein Kyun Nahin Rakhte
Aditya Tripathi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
0:47
मैं अजय त्रिपाठी आपका प्रश्न है कि आचार से खट्टे पदार्थ पीता लताओं के बर्तनों में क्यों नहीं रहती पर जानते ही होंगे कि आचार से खट्टे पदार्थ जैसे दही नींबू खट्टे पदार्थ होते इनका गुणवत्ता वजह से धातु से अब क्या कहते हैं तो एक विषैली लम्हों को उत्पन्न करते हैं जो कि हमारे शरीर के लिए हानिकारक होते और इनसे बर्तनों की हानि होती बर्तनों का क्षरण होता है इसलिए हमें खट्टे पदार्थ पीतल के बर्तनों में नहीं रखनी चाहिए धन्यवाद
Main ajay tripaathee aapaka prashn hai ki aachaar se khatte padaarth peeta lataon ke bartanon mein kyon nahin rahatee par jaanate hee honge ki aachaar se khatte padaarth jaise dahee neemboo khatte padaarth hote inaka gunavatta vajah se dhaatu se ab kya kahate hain to ek vishailee lamhon ko utpann karate hain jo ki hamaare shareer ke lie haanikaarak hote aur inase bartanon kee haani hotee bartanon ka ksharan hota hai isalie hamen khatte padaarth peetal ke bartanon mein nahin rakhanee chaahie dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आचार जैसे खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते?Achar Jaise Khatte Padarth Peetal Tamba Ke Bartnon Mein Kyun Nahin Rakhte
NeelamAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए NeelamAwasthi जी का जवाब
I am housewife
0:35
अचार जैसे खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते हैं देखिए अचार दही और दूसरे करते हुए दर्द हो पाए जाते हैं इसलिए जब यह हमने पीतल या जी तांबा धात के साथ किया करते हैं तो विषैले योग को का निर्माण करते हैं जो कि हमारे शरीर के लिए बहुत हानिकारक होते हैं इसलिए आचार्य खट्टे खाद्य पदार्थों को पीतल या तांबे के बर्तन में नहीं रखा जाता है धन्यवाद

bolkar speaker
आचार जैसे खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते?Achar Jaise Khatte Padarth Peetal Tamba Ke Bartnon Mein Kyun Nahin Rakhte
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:47
का सवाल है कि आचार्य से खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते हैं कि पीतल तांबा का जो बर्तन होता है वह जंग लग सकता है उसमें यह कराकर एसिड होता है और कैसे मिशन कहते तो आचार में विटामिन सी होती है यह बहुत इकट्ठा होता है और खट्टा चीज से जो जंग लगना करोड़ जिसे हम कहते करो जन हो सकता है इसीलिए कभी भी अचार को और खट्टी चीजों को कभी भी हमें ऐसे तांबा या फिर आप जैसा बोल रहे थे यह सब के बर्तनों में नहीं रखना चाहिए हमेशा कांच के गिलास में रखना मतलब कितना भी हो खट्टा हो वह इस तरह के कई नेता की जंग ना लगे या फिर वह उसमें करो जाना हो और जो आपका आचार्य वह काफी अच्छे से रहें
Ka savaal hai ki aachaary se khatte padaarth peetal taamba ke bartanon mein kyon nahin rakhate hain ki peetal taamba ka jo bartan hota hai vah jang lag sakata hai usamen yah karaakar esid hota hai aur kaise mishan kahate to aachaar mein vitaamin see hotee hai yah bahut ikattha hota hai aur khatta cheej se jo jang lagana karod jise ham kahate karo jan ho sakata hai iseelie kabhee bhee achaar ko aur khattee cheejon ko kabhee bhee hamen aise taamba ya phir aap jaisa bol rahe the yah sab ke bartanon mein nahin rakhana chaahie hamesha kaanch ke gilaas mein rakhana matalab kitana bhee ho khatta ho vah is tarah ke kaee neta kee jang na lage ya phir vah usamen karo jaana ho aur jo aapaka aachaary vah kaaphee achchhe se rahen

bolkar speaker
आचार जैसे खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते?Achar Jaise Khatte Padarth Peetal Tamba Ke Bartnon Mein Kyun Nahin Rakhte
Pradumn kumar Vajpayee Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Pradumn जी का जवाब
Bijneas9369174848
1:11
नयाचार से खट्टे पदार्थ पीतल तांबे के बर्तन में क्यों नहीं रखते हम लिए चीजों में धातु के साथ एक रासायनिक क्रिया होती है जिस प्रकार से हम बैटरी की प्लेट में एसिड डालते हैं और रासायनिक क्रिया होती हैं और वह प्लेट धीरे-धीरे गल जाती है ठीक उसी प्रकार से जब हम तांबे या पीतल में खटाई दही इनका यूज करते हैं यानि कहने का मतलब यह है जब हम उस में रखते हैं तो एक रासायनिक क्रिया होती है जिसके कारण उसमें से वह धातु करने लगती है और गन्ने के बाद एक विषैला रूप धारण कर लेती है जो कि खाने के लिए एक विषाक्त पदार्थ का रूप धारण कर लेता है जो कि काफी खतरनाक साबित हो सकता है और यह सारी है अमरीकी राजधानी की प्रक्रिया द्वारा जिसका उदाहरण आपको पहले बता चुके हैं इन्हीं कारणों की वजह से आचार्य खट्टे पदार्थ पीतल या तांबे के बर्तनों में नहीं रखनी चाहिए धन्यवाद
Nayaachaar se khatte padaarth peetal taambe ke bartan mein kyon nahin rakhate ham lie cheejon mein dhaatu ke saath ek raasaayanik kriya hotee hai jis prakaar se ham baitaree kee plet mein esid daalate hain aur raasaayanik kriya hotee hain aur vah plet dheere-dheere gal jaatee hai theek usee prakaar se jab ham taambe ya peetal mein khataee dahee inaka yooj karate hain yaani kahane ka matalab yah hai jab ham us mein rakhate hain to ek raasaayanik kriya hotee hai jisake kaaran usamen se vah dhaatu karane lagatee hai aur ganne ke baad ek vishaila roop dhaaran kar letee hai jo ki khaane ke lie ek vishaakt padaarth ka roop dhaaran kar leta hai jo ki kaaphee khataranaak saabit ho sakata hai aur yah saaree hai amareekee raajadhaanee kee prakriya dvaara jisaka udaaharan aapako pahale bata chuke hain inheen kaaranon kee vajah se aachaary khatte padaarth peetal ya taambe ke bartanon mein nahin rakhanee chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
आचार जैसे खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते?Achar Jaise Khatte Padarth Peetal Tamba Ke Bartnon Mein Kyun Nahin Rakhte
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
नमस्कार आप अपना स्नेह आचार्य खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते हैं अचार से इशिता 4 में एसिड होता है खट्टा पदार्थ एसिड होता है जो पीतल और तांबे के बर्तनों के साथ क्रिया कर लेता है तो वे उसका रंग बदल जाता है और हरा हो जाता है और वह खाने योग्य नहीं रहता है और उसका स्वाद भी बदल जाता है इसलिए खट्टे पदार्थ पीतल और तांबे में नहीं रखे जाते हैं क्योंकि वह कटे होने की वजह से उसके साथ क्रिया करके बिल्कुल उसका स्वाद बदल जाता है जो खाने लायक नहीं होता इसलिए उस में नहीं रखना चाहिए धन्यवाद
Namaskaar aap apana sneh aachaary khatte padaarth peetal taamba ke bartanon mein kyon nahin rakhate hain achaar se ishita 4 mein esid hota hai khatta padaarth esid hota hai jo peetal aur taambe ke bartanon ke saath kriya kar leta hai to ve usaka rang badal jaata hai aur hara ho jaata hai aur vah khaane yogy nahin rahata hai aur usaka svaad bhee badal jaata hai isalie khatte padaarth peetal aur taambe mein nahin rakhe jaate hain kyonki vah kate hone kee vajah se usake saath kriya karake bilkul usaka svaad badal jaata hai jo khaane laayak nahin hota isalie us mein nahin rakhana chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
आचार जैसे खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते?Achar Jaise Khatte Padarth Peetal Tamba Ke Bartnon Mein Kyun Nahin Rakhte
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:23
जयप्रदा जाकिर भाई नींबू का रस इमली हजार हाथी में उपस्थित आंबे अथवा पीतल की अभिक्रिया के स्वास्थ्य के लिए भी कारक लवण अपन करता हूं कि हमें खट्टे पदार्थों को पीतल एवं तांबे के बर्तनों में नहीं रखना चाहिए यदि रखना तो हम भी के बर्तन में रखना चाहिए
Jayaprada jaakir bhaee neemboo ka ras imalee hajaar haathee mein upasthit aambe athava peetal kee abhikriya ke svaasthy ke lie bhee kaarak lavan apan karata hoon ki hamen khatte padaarthon ko peetal evan taambe ke bartanon mein nahin rakhana chaahie yadi rakhana to ham bhee ke bartan mein rakhana chaahie

bolkar speaker
आचार जैसे खट्टे पदार्थ पीतल तांबा के बर्तनों में क्यों नहीं रखते?Achar Jaise Khatte Padarth Peetal Tamba Ke Bartnon Mein Kyun Nahin Rakhte
guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
0:25

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard