#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए?

Surya Dev Bhagwan Ke Kitne Putra Putriyan The Un Sabhi Ke Naam Bataiye
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
0:31
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं सवाल सूर्य भगवान के कितने पुत्र होते रहते हैं उन सभी के नाम बताइए तो देखे धर्म और ग्रंथों के अनुसार उनके मलहम नामकरण किस प्रकार थी जब सबसे बड़े पुत्र थे उनका नाम से यम यम देव दूसरे नंबर पर उनका नाम था उम्मीद करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain savaal soory bhagavaan ke kitane putr hote rahate hain un sabhee ke naam bataie to dekhe dharm aur granthon ke anusaar unake malaham naamakaran kis prakaar thee jab sabase bade putr the unaka naam se yam yam dev doosare nambar par unaka naam tha ummeed karata hoon savaal ka javaab achchha laga dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए?Surya Dev Bhagwan Ke Kitne Putra Putriyan The Un Sabhi Ke Naam Bataiye
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:30
सुखदेव भगवान के कितने पुत्र थे उन सभी के नाम बताएं कि भगवान शिव की दो पत्नियां थी और एक छाया थी और संघ बिल्कुल उनके करीब नहीं रह पाती थी क्योंकि उनके उस चीज को प्रभावित किए वह नहीं कर पाई संध्या की छह संता ने पहले तो आप धर्मराज को माने लीजिए फिर यमराज को मान लीजिए मनु को मान लीजिए अश्वनी कुमार और रेवंत और एक पुत्री थी जिसका नाम था या मिया यमुना बोलते हैं यह संताने जो है संज्ञा की फिल्म और जो शनिदेव की दूसरी पत्नी छाया थी उनकी चार संतानी एक तो सबसे बड़े पुत्र शनि देव और फिर लड़की थी तृप्ति करके थी और पर बांद्रा लड़का था और स्वर्णिम अनु करके जो थे वह चौथी कुल मिलाकर 4 संतानें सुधारने की भगवान सूर्य की दो पुत्रियां थी और बाकी है हॉट जो है वह पुत्र थे
Sukhadev bhagavaan ke kitane putr the un sabhee ke naam bataen ki bhagavaan shiv kee do patniyaan thee aur ek chhaaya thee aur sangh bilkul unake kareeb nahin rah paatee thee kyonki unake us cheej ko prabhaavit kie vah nahin kar paee sandhya kee chhah santa ne pahale to aap dharmaraaj ko maane leejie phir yamaraaj ko maan leejie manu ko maan leejie ashvanee kumaar aur revant aur ek putree thee jisaka naam tha ya miya yamuna bolate hain yah santaane jo hai sangya kee philm aur jo shanidev kee doosaree patnee chhaaya thee unakee chaar santaanee ek to sabase bade putr shani dev aur phir ladakee thee trpti karake thee aur par baandra ladaka tha aur svarnim anu karake jo the vah chauthee kul milaakar 4 santaanen sudhaarane kee bhagavaan soory kee do putriyaan thee aur baakee hai hot jo hai vah putr the

bolkar speaker
सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए?Surya Dev Bhagwan Ke Kitne Putra Putriyan The Un Sabhi Ke Naam Bataiye
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:07
सवाल यह है कि सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थी उन सभी के नाम बताइए तो सूर्य देव के 7 पुत्र और दो पुत्रियां थी मृत्यु के देव्यम धर्मराज यमराज सूर्य के सबसे बड़े पुत्र हैं और मृत्यु के देवता कहलाते हैं मनुष्य के कर्मों के अनुसार उनकी मृत्यु और दंड को निर्धारित करने का अधिकार एवं के पास ही है यामी यामी यानी यमुना नदी सूर्य की दूसरी संस्था और जस्ट पुत्री हैं जो माता संज्ञा को सूर्य देव से मिले आशीर्वाद आशीर्वाद चलते पृथ्वी पर नदी के रूप में प्रसिद्ध हुई वैवस्वत मनु सूर्य और उनकी पहली पत्नी संज्ञा की तीसरी संतान है वैवस्वत मनु वर्तमान यानी सातवें मंत्र मंत्र के अधिपति यानी जो प्रलय के बाद संसार के पुनर्निर्माण वर्क करने वाले प्रथम पुरुष बने और जिन्होंने मनुस्मृति की ना कि शनि देव सूर्य और उनकी दूसरी पत्नी छाया का मुखी प्रथम संतान है शनि देव जिन्हें कर्मफल दाता और न्याय का अधिकारी भी कहा जाता है अपने जन्म से शनि अपने पिता से पिता से शत्रु भाव रखते थे भगवान शंकर के वरदान से वे नवग्रहों में सर्वश्रेष्ठ स्थान पर नियुक्त हुए और मानव तो क्या देवता भी उनके नाम से भयभीत रहते हैं व्हिस्की या भद्रा सूर्यपुत्र वृष्टि भद्रा नाम से नक्षत्र लोक में प्रविष्ट हुई भद्रकाली वर्ण लंबे केश बड़े बड़े दांत का भयंकर रूप वाली कन्या है बदरा गधे के मुख और लंबे पूछ और तीन प्रयुक्त उत्पन्न हुई शनि की तरह ही इसका प्रभाव भी कड़क बताया गया है उनके स्वभाव को नियंत्रित करने के लिए ही भगवान ब्रह्मा ने उन्हें कालगणना या पांचाल के एक प्रमुख अंगूठी करण में स्थान स्थान दिया है सा बरौनी मनु सूर्य और छाया की चौथी संतान है सारणी मनु मनु की ही तरह मन्वंतर के पश्चात अगले यानी आठवें मन्वंतर के अधिपति होंगे अश्विनी कुमार प्रथम पत्नी संज्ञा से घोड़ी रूप में सहयोग से आंसू रो के पुत्रों के रूप में जुड़वा अश्विनी कुमारों की उत्पत्ति हुई जो देवताओं के वैद्य हैं कहते हैं कि दधीचि ने दधीचि से मनु विद्या सीखने के लिए उनके घर पर घोड़े का सिर रख दिया गया था और तब से उनका तब से मधु विद्या सीखी थी अत्यंत रूपवान माने जाने वाले अश्विनी कुमार नासत्य और 10th के नाम से भी प्रसिद्ध हुए सूर्य की सबसे छोटी और संज्ञा की छोटी संतान हैं रेवंत जो उनके पुनर्मिलन के बाद मीठी सूर्य रथ के सारथी के रूप में निरंतर भगवान सूर्य की सेवा में रहते हैं
Savaal yah hai ki soory dev bhagavaan ke kitane putr putriyaan thee un sabhee ke naam bataie to soory dev ke 7 putr aur do putriyaan thee mrtyu ke devyam dharmaraaj yamaraaj soory ke sabase bade putr hain aur mrtyu ke devata kahalaate hain manushy ke karmon ke anusaar unakee mrtyu aur dand ko nirdhaarit karane ka adhikaar evan ke paas hee hai yaamee yaamee yaanee yamuna nadee soory kee doosaree sanstha aur jast putree hain jo maata sangya ko soory dev se mile aasheervaad aasheervaad chalate prthvee par nadee ke roop mein prasiddh huee vaivasvat manu soory aur unakee pahalee patnee sangya kee teesaree santaan hai vaivasvat manu vartamaan yaanee saataven mantr mantr ke adhipati yaanee jo pralay ke baad sansaar ke punarnirmaan vark karane vaale pratham purush bane aur jinhonne manusmrti kee na ki shani dev soory aur unakee doosaree patnee chhaaya ka mukhee pratham santaan hai shani dev jinhen karmaphal daata aur nyaay ka adhikaaree bhee kaha jaata hai apane janm se shani apane pita se pita se shatru bhaav rakhate the bhagavaan shankar ke varadaan se ve navagrahon mein sarvashreshth sthaan par niyukt hue aur maanav to kya devata bhee unake naam se bhayabheet rahate hain vhiskee ya bhadra sooryaputr vrshti bhadra naam se nakshatr lok mein pravisht huee bhadrakaalee varn lambe kesh bade bade daant ka bhayankar roop vaalee kanya hai badara gadhe ke mukh aur lambe poochh aur teen prayukt utpann huee shani kee tarah hee isaka prabhaav bhee kadak bataaya gaya hai unake svabhaav ko niyantrit karane ke lie hee bhagavaan brahma ne unhen kaalaganana ya paanchaal ke ek pramukh angoothee karan mein sthaan sthaan diya hai sa baraunee manu soory aur chhaaya kee chauthee santaan hai saaranee manu manu kee hee tarah manvantar ke pashchaat agale yaanee aathaven manvantar ke adhipati honge ashvinee kumaar pratham patnee sangya se ghodee roop mein sahayog se aansoo ro ke putron ke roop mein judava ashvinee kumaaron kee utpatti huee jo devataon ke vaidy hain kahate hain ki dadheechi ne dadheechi se manu vidya seekhane ke lie unake ghar par ghode ka sir rakh diya gaya tha aur tab se unaka tab se madhu vidya seekhee thee atyant roopavaan maane jaane vaale ashvinee kumaar naasaty aur 10th ke naam se bhee prasiddh hue soory kee sabase chhotee aur sangya kee chhotee santaan hain revant jo unake punarmilan ke baad meethee soory rath ke saarathee ke roop mein nirantar bhagavaan soory kee seva mein rahate hain

bolkar speaker
सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए?Surya Dev Bhagwan Ke Kitne Putra Putriyan The Un Sabhi Ke Naam Bataiye
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:43
स्वामी की सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र हैं वह खुद गया कि उनके नाम क्या थे और सूर्य देव की दो पत्नियां थी छाया हो सके ऐसा माना जाता है कि संज्ञा जो हिंदी सांवरिया शनि देव की पत्नी के नाम पर ही पड़ा था सूर्य देव की पुत्रों के नाम से विश्वकर्मा यामिनी सनी देओल की तीरा सुब्रमोनी अश्विन कुमार जय भारत इस प्रकार केसरी कुमार के पुत्रों के नाम माने जाते हैं धन्यवाद
Svaamee kee soory dev bhagavaan ke kitane putr hain vah khud gaya ki unake naam kya the aur soory dev kee do patniyaan thee chhaaya ho sake aisa maana jaata hai ki sangya jo hindee saanvariya shani dev kee patnee ke naam par hee pada tha soory dev kee putron ke naam se vishvakarma yaaminee sanee deol kee teera subramonee ashvin kumaar jay bhaarat is prakaar kesaree kumaar ke putron ke naam maane jaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए?Surya Dev Bhagwan Ke Kitne Putra Putriyan The Un Sabhi Ke Naam Bataiye
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:36
सूर्य भगवान को के कितने पुत्र और पुत्री आते हैं उन सभी के नाम बताइए इन सभी के नाम जो है वह मिल नहीं रहे लेकिन कुछ पता चला है शायद कहीं पर यह नाम हो सकते हैं लेकिन सूर्य देव की दो पत्नियां थी दो पत्नियों से उनको साफ 7 पुत्र अब्दुल पुत्री हुई थी एक पत्नी का नाम था सो गया अंशिका नाम का छाया से यमुना बन गया था वह नदी नदी के रूप में रह रही थी असंग या नबी के रूप में रहे बाद में संज्ञा ने सूर्य देव को छोड़ दिया क्योंकि उनका तेज उसको से नहीं हो पाता इनके पिता विश्वकर्मा नीचे विश्वकर्मा ने उस देश को कम करने के लिए उसको छोटा था फिर संख्या जो है वह कुर्सी पर रहने लेकर आ और छाया यमुना पूछी पर रहने की सब ज्ञानी बाद में अश्विनी या एक घोड़े के रूप में जन्म लिया तो सूर्य ने अपने को घोड़े के रूप में जाकर उस गोली से 2 पुत्र ने का निर्माण किया उनमें से एक है अश्विनी कुमार तो इस तरीके का कुछ पता चलता है लेकिन इसके पीछे प्रमुख यह तो कहानियां है और कहानियों के पात्र हैं यह कहानी कहानियां जो है वह सुनने के लिए रोचक है पर यह कोई नहीं है काल्पनिक कहानियां और इससे उसका भी एक मतलब निकल कर आता है कि निसर्ग शक्ति अयोध्या पर आया है सूर्य देव नदिया गधी जैसे प्राणी प्रारंभिक आ रही है जो थे वह निसर्ग पूजन थे वायु वरुण अग्नि इसी निसर्ग निसर्ग चीजों के द्वारा धना करते थे प्रार्थना करते थे मंत्र बनाए थे मंत्रों का उपचार करते थे और संकट से बचने के लिए इन चीजों को संरक्षण के लिए बुलाया करती थी ग्रुप में ग्रुप में आप पढ़ सकते हैं सूर्य देवी अकाउंट होता हो सकता है उसके साथ में बताए गए बताए गए हैं और सूर्य की किरण जो होती है वह सात रंगों की होती है तो यह भी एक नैसर्गिक जो होती है वह उस वक्त के इंसानियत उसी दुनिया ने देखी होगी और उससे उनके मन में यह कल्पना ही होगी कि सूर्य के साथ रहे इस तरह के कुछ इंफॉर्मेशन मुझे याद है वह मैंने इस प्रश्न के संदर्भ में बताएं धन्यवाद
Soory bhagavaan ko ke kitane putr aur putree aate hain un sabhee ke naam bataie in sabhee ke naam jo hai vah mil nahin rahe lekin kuchh pata chala hai shaayad kaheen par yah naam ho sakate hain lekin soory dev kee do patniyaan thee do patniyon se unako saaph 7 putr abdul putree huee thee ek patnee ka naam tha so gaya anshika naam ka chhaaya se yamuna ban gaya tha vah nadee nadee ke roop mein rah rahee thee asang ya nabee ke roop mein rahe baad mein sangya ne soory dev ko chhod diya kyonki unaka tej usako se nahin ho paata inake pita vishvakarma neeche vishvakarma ne us desh ko kam karane ke lie usako chhota tha phir sankhya jo hai vah kursee par rahane lekar aa aur chhaaya yamuna poochhee par rahane kee sab gyaanee baad mein ashvinee ya ek ghode ke roop mein janm liya to soory ne apane ko ghode ke roop mein jaakar us golee se 2 putr ne ka nirmaan kiya unamen se ek hai ashvinee kumaar to is tareeke ka kuchh pata chalata hai lekin isake peechhe pramukh yah to kahaaniyaan hai aur kahaaniyon ke paatr hain yah kahaanee kahaaniyaan jo hai vah sunane ke lie rochak hai par yah koee nahin hai kaalpanik kahaaniyaan aur isase usaka bhee ek matalab nikal kar aata hai ki nisarg shakti ayodhya par aaya hai soory dev nadiya gadhee jaise praanee praarambhik aa rahee hai jo the vah nisarg poojan the vaayu varun agni isee nisarg nisarg cheejon ke dvaara dhana karate the praarthana karate the mantr banae the mantron ka upachaar karate the aur sankat se bachane ke lie in cheejon ko sanrakshan ke lie bulaaya karatee thee grup mein grup mein aap padh sakate hain soory devee akaunt hota ho sakata hai usake saath mein batae gae batae gae hain aur soory kee kiran jo hotee hai vah saat rangon kee hotee hai to yah bhee ek naisargik jo hotee hai vah us vakt ke insaaniyat usee duniya ne dekhee hogee aur usase unake man mein yah kalpana hee hogee ki soory ke saath rahe is tarah ke kuchh imphormeshan mujhe yaad hai vah mainne is prashn ke sandarbh mein bataen dhanyavaad

bolkar speaker
सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए?Surya Dev Bhagwan Ke Kitne Putra Putriyan The Un Sabhi Ke Naam Bataiye
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
3:38
नमस्कार बोलकर है पर मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र आपका हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए तो मित्र सूर्य देव का परिवार काफी बड़ा है उनकी संख्या और छाया नाम की दो पत्नियां और 10 संतानें हैं जिसमें से यमराज और शनिदेव जैसे पुत्र और यमुना जैसी बेटियां शामिल है मनु सूरत के रचयिता वैवस्वत मनु भी सूर्यपुत्र ही है सूर्य देव की दो पत्नियां संज्ञा और छाया है संध्या सूर्य का तेज न सह पाने के कारण अपनी छाया को उनकी पत्नी के रूप में स्थापित करके तब करने चले गए थे लंबे समय तक छाया को ही अपनी प्रथम पत्नी समझकर सूर्य उनके साथ रहते रहे यार आज बहुत बाद में खुला कि वे संज्ञा नहीं छाया है संज्ञा से सूर्य को जुड़वा अश्विनी कुमारों के रूप में दो बेटों सहित 6 से तने हुई जबकि छाया से उनकी चार संताने थी सूर्य के ससुर विश्वकर्मा थे और सूर्य के पुत्र यम धर्मराज यमराज भी कहे जाते हैं जो कि सूर्य के बड़े पुत्र और संज्ञा की प्रथम संतान है यानी यानी यमुना नदी सूर्य की दूसरी संतान और ज्येष्ठ पुत्री हैं जो अपनी माता संज्ञा को सूर्य देव से मिले आशीर्वाद के चलते पृथ्वी पर नदी के रूप में प्रसिद्ध हुए वैवस्वत मनु सूर्य और संज्ञा की तीसरी संतान वैवस्वत मनु वर्तमान यानी साथ में मनोज सर के अधिपति हैं यानी जो प्रलय के बाद संसार के पुनर्निर्माण करने वाले प्रथम पुरुष बने और जिन्होंने मनुष्य की रचना की शनि देव सूर्य और छाया की प्रथम संतान में शनि देव जी ने कर्म फल दाता और न्याय अधिकारी भी कहा जाता है तपती छाया और सूर्य की कन्या शक्ति का विवाह अत्यंत धर्मात्मा सोमवंशी राजा संभरण के साथ हुआ व्यक्ति या भद्रा सूर्य और छाया पुत्री भी और मद्रा नाम से नक्षत्र लोक में प्रविष्ट हुए भद्रकाली बाल लंबे केश बड़े दांत तथा बैंक रखवाली करने आए बदरा गधे के मुख और लंबे पूछ और तीन प्रयुक्त उत्पन्न हुई की तरह इसका स्वभाव भी कड़क बताया गया है सामान्य मन सूर्य और छाया की चौथी संतान है सामान्य मनुष्य व स्वस्थ मन की ही तरह इस मनोज सर के पश्चात अगले यानी 8 में मनवा स्तर के अधिपति होंगे अश्विनी कुमार संज्ञा के बारे में जानकारी मिलने के बाद अपना तेज कम करके सूर्य घोड़ा बनकर उनके पास गए संज्ञा उस समय अश्विनी यानी घोड़ी के रूप में थी दोनों के सहयोग से जुड़वा अश्विनी कुमारों की उत्पत्ति हुई जो देवताओं के वैद्य हैं कहते हैं कि अधिक से मधु विद्या सीखने के लिए उनके दर पर घोड़े का सिर रख दिया गया था और तब उनसे मधु विद्या सीखी थी अत्यंत रूपवान माने जाने वाले अश्विनी कुमार नासत्य और वस्त्र के नाम से भी विधायक रेवंत सूर्य की सबसे छोटी और संज्ञा की छठी संतान है रेवंत जो उनके पुनर्मिलन के बाद जन्मी थी रेवंत निरंतर भगवान सूर्य की सेवा में रहते हैं मित्र जवाब अच्छा लगा हुआ तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar bolakar hai par main braham prakaash mishr aapaka haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai soory dev bhagavaan ke kitane putr putriyaan the un sabhee ke naam bataie to mitr soory dev ka parivaar kaaphee bada hai unakee sankhya aur chhaaya naam kee do patniyaan aur 10 santaanen hain jisamen se yamaraaj aur shanidev jaise putr aur yamuna jaisee betiyaan shaamil hai manu soorat ke rachayita vaivasvat manu bhee sooryaputr hee hai soory dev kee do patniyaan sangya aur chhaaya hai sandhya soory ka tej na sah paane ke kaaran apanee chhaaya ko unakee patnee ke roop mein sthaapit karake tab karane chale gae the lambe samay tak chhaaya ko hee apanee pratham patnee samajhakar soory unake saath rahate rahe yaar aaj bahut baad mein khula ki ve sangya nahin chhaaya hai sangya se soory ko judava ashvinee kumaaron ke roop mein do beton sahit 6 se tane huee jabaki chhaaya se unakee chaar santaane thee soory ke sasur vishvakarma the aur soory ke putr yam dharmaraaj yamaraaj bhee kahe jaate hain jo ki soory ke bade putr aur sangya kee pratham santaan hai yaanee yaanee yamuna nadee soory kee doosaree santaan aur jyeshth putree hain jo apanee maata sangya ko soory dev se mile aasheervaad ke chalate prthvee par nadee ke roop mein prasiddh hue vaivasvat manu soory aur sangya kee teesaree santaan vaivasvat manu vartamaan yaanee saath mein manoj sar ke adhipati hain yaanee jo pralay ke baad sansaar ke punarnirmaan karane vaale pratham purush bane aur jinhonne manushy kee rachana kee shani dev soory aur chhaaya kee pratham santaan mein shani dev jee ne karm phal daata aur nyaay adhikaaree bhee kaha jaata hai tapatee chhaaya aur soory kee kanya shakti ka vivaah atyant dharmaatma somavanshee raaja sambharan ke saath hua vyakti ya bhadra soory aur chhaaya putree bhee aur madra naam se nakshatr lok mein pravisht hue bhadrakaalee baal lambe kesh bade daant tatha baink rakhavaalee karane aae badara gadhe ke mukh aur lambe poochh aur teen prayukt utpann huee kee tarah isaka svabhaav bhee kadak bataaya gaya hai saamaany man soory aur chhaaya kee chauthee santaan hai saamaany manushy va svasth man kee hee tarah is manoj sar ke pashchaat agale yaanee 8 mein manava star ke adhipati honge ashvinee kumaar sangya ke baare mein jaanakaaree milane ke baad apana tej kam karake soory ghoda banakar unake paas gae sangya us samay ashvinee yaanee ghodee ke roop mein thee donon ke sahayog se judava ashvinee kumaaron kee utpatti huee jo devataon ke vaidy hain kahate hain ki adhik se madhu vidya seekhane ke lie unake dar par ghode ka sir rakh diya gaya tha aur tab unase madhu vidya seekhee thee atyant roopavaan maane jaane vaale ashvinee kumaar naasaty aur vastr ke naam se bhee vidhaayak revant soory kee sabase chhotee aur sangya kee chhathee santaan hai revant jo unake punarmilan ke baad janmee thee revant nirantar bhagavaan soory kee seva mein rahate hain mitr javaab achchha laga hua to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

bolkar speaker
सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए?Surya Dev Bhagwan Ke Kitne Putra Putriyan The Un Sabhi Ke Naam Bataiye
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59
नमस्कार हम आपका प्रश्न है कि सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए देखे सूर्य भगवान के कुल 5 पुत्र पुत्रियां थे जिनमें से दो संध्या के पुत्र थे जिनके नाम यम और यमी थे एक छाया का पुत्र था जिसका नाम सनी और दो पुत्र संध्या शापित संध्या जब अथवा बनी तब उसके पुत्र हुए थे इस प्रकार कुल 5 पुत्र थे धन्यवाद जावेद हेलो हेलो
Namaskaar ham aapaka prashn hai ki soory dev bhagavaan ke kitane putr putriyaan the un sabhee ke naam bataie dekhe soory bhagavaan ke kul 5 putr putriyaan the jinamen se do sandhya ke putr the jinake naam yam aur yamee the ek chhaaya ka putr tha jisaka naam sanee aur do putr sandhya shaapit sandhya jab athava banee tab usake putr hue the is prakaar kul 5 putr the dhanyavaad jaaved helo helo

bolkar speaker
सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए?Surya Dev Bhagwan Ke Kitne Putra Putriyan The Un Sabhi Ke Naam Bataiye
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:26
सूर्य देव भगवान के दो पत्नी थी संज्ञा और छाया तथा दोनों पत्नियों से सूर्य देव को 7 पुत्र और दो पुत्रियां प्राप्त हुई सूर्य के पुत्र रामायण और महाभारत में भी था श्री रामायण में तो शिव गुरु के अवतार श्री कृष्ण कथा महाभारत में कर्ण का जन्म हुआ था
Soory dev bhagavaan ke do patnee thee sangya aur chhaaya tatha donon patniyon se soory dev ko 7 putr aur do putriyaan praapt huee soory ke putr raamaayan aur mahaabhaarat mein bhee tha shree raamaayan mein to shiv guru ke avataar shree krshn katha mahaabhaarat mein karn ka janm hua tha

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे
URL copied to clipboard