#जीवन शैली

bolkar speaker

शिवाजी को अपने आरंभिक जीवन में किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा?

Shivaji Ko Apne Aarambhik Jeevan Mein Kin Kathinaiyon Ka Samna Karna Pda
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:10
वाजी भारत की वह एक आदर्श राजा हैं जिनका नाम हर भारतीय बड़े गौरव के साथ लेना चाहता है क्योंकि शिवाजी महाराणा प्रताप यह दो तीन नाम ऐसे हैं जिनको भारतीय लोग बहुत आदर देते हैं क्योंकि महाराणा प्रताप सुनीता की पर्याय थी तो शोभा जी दबंग ताका और सच्चाई का साथ गरीबों का साथ देने के लिए शिवाजी का नाम विशेषताओं से सम्मान के साथ लिया जाता है सुभाष जी ने आरंभिक जीवन ज्योति या वह अपनी माता जीजाबाई के संरक्षण में कठोर परिश्रम करते हुए गुजारा था उनके गुरु समर्थ गुरु रामदास थे उन्होंने बचपन से ही उनको शस्त्र और शास्त्र की शिक्षा हिंदी माता जीजाबाई ने उन्हें हमेशा मानव सेवा के लिए समाज सेवा के लिए गरीबों की सहायता के लिए प्रेरित किया क्योंकि वह बहुत सही दे दयालु महिला थी उन्होंने भारतीय संस्कारों को शिवाजी में आरोपित क्या उन भारतीय संस्कृति का बहुत श्रेष्ठ संभाग बनाया इस प्रकार शिवाजी ने बचपन में ही मत माता जीजाबाई से और समर्थ गुरु श्री रामदास जी से कठिन परिस्थितियों में किस प्रकार से संघर्ष किया जाता है यह ज्ञान शत्रु शास्त्रों का ज्ञान में पारंगत बनाया था सुभाष जी के समय में मुगलों का बोलबाला था और उन जीत के अन्याय भारत में चल रही थी अत्याचार चल रही थी औरंगजेब एक बहुत ही कट्टर का शासक था यहां तक कि भारतीय लोगों से जजिया कर भी लिया जाता था जो हिंदू लोग अपनी तीर्थ स्थानों को जाना चाहते थे उन पर निर्दयता के साथ में उन्हें जजिया कर देना होता है ऐसी कठिन परिस्थितियों में मात्र शिवाजी की शक्ति थी जिन्होंने औरंगजेब की सेना को नाको चने चबाने और उनसे संघर्ष किया और अपने महाराष्ट्र के जो इला कि उनके पास थे उनको उन्होंने सुरक्षित रखा और मराठों की शक्ति को संगठित किया था
Vaajee bhaarat kee vah ek aadarsh raaja hain jinaka naam har bhaarateey bade gaurav ke saath lena chaahata hai kyonki shivaajee mahaaraana prataap yah do teen naam aise hain jinako bhaarateey log bahut aadar dete hain kyonki mahaaraana prataap suneeta kee paryaay thee to shobha jee dabang taaka aur sachchaee ka saath gareebon ka saath dene ke lie shivaajee ka naam visheshataon se sammaan ke saath liya jaata hai subhaash jee ne aarambhik jeevan jyoti ya vah apanee maata jeejaabaee ke sanrakshan mein kathor parishram karate hue gujaara tha unake guru samarth guru raamadaas the unhonne bachapan se hee unako shastr aur shaastr kee shiksha hindee maata jeejaabaee ne unhen hamesha maanav seva ke lie samaaj seva ke lie gareebon kee sahaayata ke lie prerit kiya kyonki vah bahut sahee de dayaalu mahila thee unhonne bhaarateey sanskaaron ko shivaajee mein aaropit kya un bhaarateey sanskrti ka bahut shreshth sambhaag banaaya is prakaar shivaajee ne bachapan mein hee mat maata jeejaabaee se aur samarth guru shree raamadaas jee se kathin paristhitiyon mein kis prakaar se sangharsh kiya jaata hai yah gyaan shatru shaastron ka gyaan mein paarangat banaaya tha subhaash jee ke samay mein mugalon ka bolabaala tha aur un jeet ke anyaay bhaarat mein chal rahee thee atyaachaar chal rahee thee aurangajeb ek bahut hee kattar ka shaasak tha yahaan tak ki bhaarateey logon se jajiya kar bhee liya jaata tha jo hindoo log apanee teerth sthaanon ko jaana chaahate the un par nirdayata ke saath mein unhen jajiya kar dena hota hai aisee kathin paristhitiyon mein maatr shivaajee kee shakti thee jinhonne aurangajeb kee sena ko naako chane chabaane aur unase sangharsh kiya aur apane mahaaraashtr ke jo ila ki unake paas the unako unhonne surakshit rakha aur maraathon kee shakti ko sangathit kiya tha

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • शिवाजी को अपने आरंभिक जीवन में किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा शिवाजी को किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा
URL copied to clipboard