#undefined

bolkar speaker

उत्तराखंड की बाल मिठाई इतने खास क्यों है और कैसे बनाई जाती है?

Uttarakhand Ki Baal Mithayi Itne Khaas Kyun Hai Aur Kaise Banayi Jaati Hain
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
2:59
मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र आपका बोल करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है उत्तराखंड की बाल मिठाई इतनी खास क्यों है और कैसे बनाई जाती है तो मित्र उत्तराखंड यानी नैनीताल अल्मोड़ा आदि आप कभी गए होंगे तो इन शहरों में बाल मिठाई या गोरी बहुत ही प्रसिद्ध है बाल मिठाई का स्वाद इतना लाजवाब है कि कोई भी इसे बिना खाए ही नहीं सकता और इस मिठाई का जैसा स्वाद कहीं और जगह की मिठाई में मिलेगा ही नहीं क्योंकि इस मिठाई में है पहाड़ी गाय और भैंस के दूध से बने हुए खोए की खुशबू और लाजवाब स्वाद वैसे इस बात का कोई स्पष्ट प्रमाण तो नहीं है लेकिन ऐसा माना जाता है कि यह बाल मिठाई भगवान ने सबसे पहले नेपाल में भगवान सूर्य को प्रसाद स्वरूप चढ़ाने के लिए तैयार की जाती थी और विशेष अवसरों पर वह चढ़ाई जाती थी लेकिन सन 18 सो 56 में अल्मोड़ा के हलवाई योगा लाल शाह जी ने इसको अल्मोड़ा में ही बनाने का काम शुरू कर दिया और इसके लिए वह आस-पास के गांव से दूध इकट्ठा कर उसे शुद्ध खोया तैयार करते थे फिर इसको ए को चीनी में मिलाकर इतना भूना जाता था कि इसका रंग गहरा भूरा यानी चॉकलेट के रन के जैसे हो जाता था कि ठंडा होने के बाद इसको छोटे-छोटे आयताकार टुकड़ों में काट लिया जाता था जिससे इस मिठाई का स्वाद कई गुना बढ़ जाता था और इन टुकड़ों पर बाहर से पूछता यानी खसखस के दानों को चीनी में भिगोकर लगाया जाता था जिससे यह देखने में भी अत्यधिक आकर्षक लगती थी धीरे-धीरे यह बाल मिठाई अपने स्वाद के कारण अल्मोड़ा तथा उसके आसपास के इलाकों में भी प्रसिद्ध होती चली गई इसीलिए प्रसिद्ध लेख का गौरा पंत शिवानी जी ने इस बाल मिठाई का वर्णन अपनी रचनाओं में कई बार किया है ऐसा भी माना जाता है कि इस मिठाई को और भी संवारने का काम स्वर्गीय नंदलाल शाह जी ने किया था अब आते हैं आपके प्रश्न के अगले बिंदु पर किया कैसे बनाई जाती है तो बाल मिठाई बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण सामग्री है दूध दूध से शुद्ध खोया तैयार किया जाता है और कृष खोए में चीनी मिलाकर इसको खूब बुना जाता है जब यह को एक का रंग गहरा भूरा यानी चॉकलेट के रंग के जैसे नहीं हो जाता तब तक इसको बोलते हैं फिर इसको ठंडा किया जाता है ठंडा होने के बाद इसको छोटे-छोटे आयताकार टुकड़ों में काट लिया जाता है और उसके बाद इन टुकड़ों के बाहर पोस्टर यानी खसखस के दानों को चीनी में भिगोकर लगाते हैं जिससे इस मिठाई का स्वाद कई गुना बढ़ जाता है और यह दिखने में भी आकर्षक लगने लगती है तो मित्र यह जवाब पसंद आया हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Main braham prakaash mishr aapaka bol kare par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai uttaraakhand kee baal mithaee itanee khaas kyon hai aur kaise banaee jaatee hai to mitr uttaraakhand yaanee naineetaal almoda aadi aap kabhee gae honge to in shaharon mein baal mithaee ya goree bahut hee prasiddh hai baal mithaee ka svaad itana laajavaab hai ki koee bhee ise bina khae hee nahin sakata aur is mithaee ka jaisa svaad kaheen aur jagah kee mithaee mein milega hee nahin kyonki is mithaee mein hai pahaadee gaay aur bhains ke doodh se bane hue khoe kee khushaboo aur laajavaab svaad vaise is baat ka koee spasht pramaan to nahin hai lekin aisa maana jaata hai ki yah baal mithaee bhagavaan ne sabase pahale nepaal mein bhagavaan soory ko prasaad svaroop chadhaane ke lie taiyaar kee jaatee thee aur vishesh avasaron par vah chadhaee jaatee thee lekin san 18 so 56 mein almoda ke halavaee yoga laal shaah jee ne isako almoda mein hee banaane ka kaam shuroo kar diya aur isake lie vah aas-paas ke gaanv se doodh ikattha kar use shuddh khoya taiyaar karate the phir isako e ko cheenee mein milaakar itana bhoona jaata tha ki isaka rang gahara bhoora yaanee chokalet ke ran ke jaise ho jaata tha ki thanda hone ke baad isako chhote-chhote aayataakaar tukadon mein kaat liya jaata tha jisase is mithaee ka svaad kaee guna badh jaata tha aur in tukadon par baahar se poochhata yaanee khasakhas ke daanon ko cheenee mein bhigokar lagaaya jaata tha jisase yah dekhane mein bhee atyadhik aakarshak lagatee thee dheere-dheere yah baal mithaee apane svaad ke kaaran almoda tatha usake aasapaas ke ilaakon mein bhee prasiddh hotee chalee gaee iseelie prasiddh lekh ka gaura pant shivaanee jee ne is baal mithaee ka varnan apanee rachanaon mein kaee baar kiya hai aisa bhee maana jaata hai ki is mithaee ko aur bhee sanvaarane ka kaam svargeey nandalaal shaah jee ne kiya tha ab aate hain aapake prashn ke agale bindu par kiya kaise banaee jaatee hai to baal mithaee banaane ke lie sabase mahatvapoorn saamagree hai doodh doodh se shuddh khoya taiyaar kiya jaata hai aur krsh khoe mein cheenee milaakar isako khoob buna jaata hai jab yah ko ek ka rang gahara bhoora yaanee chokalet ke rang ke jaise nahin ho jaata tab tak isako bolate hain phir isako thanda kiya jaata hai thanda hone ke baad isako chhote-chhote aayataakaar tukadon mein kaat liya jaata hai aur usake baad in tukadon ke baahar postar yaanee khasakhas ke daanon ko cheenee mein bhigokar lagaate hain jisase is mithaee ka svaad kaee guna badh jaata hai aur yah dikhane mein bhee aakarshak lagane lagatee hai to mitr yah javaab pasand aaya ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
उत्तराखंड की बाल मिठाई इतने खास क्यों है और कैसे बनाई जाती है?Uttarakhand Ki Baal Mithayi Itne Khaas Kyun Hai Aur Kaise Banayi Jaati Hain
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:47
उत्तराखंड की सबसे बेस्ट मिठाई है तथा यह तूने यह खोए की पर चीनी के भेद गेंदों के लेफ्ट आई जाती है तथा खनन जब भूरे चॉकलेट जैसी होती है यह विशेष रूप से अल्मोड़ा के आसपास के क्षेत्र में प्रसिद्ध हुए को चीनी मिलाकर तक आ जाता जब पाठक खोया चॉकलेट जैसा ना हो जाए इसको ठंड चॉकलेट जैसा होने के बाद इसको आयतन उसमें काट लेती किसी पात्र में डाल इसके ऊपर चीनी के दानों से सजाया जाता है इसे ही बाल मिठाई कहते हैं
Uttaraakhand kee sabase best mithaee hai tatha yah toone yah khoe kee par cheenee ke bhed gendon ke lepht aaee jaatee hai tatha khanan jab bhoore chokalet jaisee hotee hai yah vishesh roop se almoda ke aasapaas ke kshetr mein prasiddh hue ko cheenee milaakar tak aa jaata jab paathak khoya chokalet jaisa na ho jae isako thand chokalet jaisa hone ke baad isako aayatan usamen kaat letee kisee paatr mein daal isake oopar cheenee ke daanon se sajaaya jaata hai ise hee baal mithaee kahate hain

bolkar speaker
उत्तराखंड की बाल मिठाई इतने खास क्यों है और कैसे बनाई जाती है?Uttarakhand Ki Baal Mithayi Itne Khaas Kyun Hai Aur Kaise Banayi Jaati Hain
guru ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए guru जी का जवाब
Students
0:19

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बाल मिठाई के लिए उत्तराखंड का कौन सा शहर प्रसिद्ध है, बाल मिठाई का इतिहास, उत्तराखंड की राजकीय मिठाई
URL copied to clipboard