#undefined

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:12
किसी भी साहित्यकार या किसी भी भाषा का बेहतरीन टिकट काटने के लिए पांच मापदंड साहित्य मर्मज्ञ द्वारा निश्चित किए गए काफी साहित्य में भी देखेंगे तो भाव और शब्द चयन आदि को देखा जाता है और गद्य साहित्य में देखे ना जाए देखा जाएगा तो गद्य साहित्य में जो भाषा है उसका प्रकार भाषा की सटीकता प्रभावों की सटीकता आदि सभी कुछ देखा जाता है वह लेखक जो जिस टॉपिक पर आर्टिकल लिख रहा है या उसने गद्य साहित्य की रचना की है यह कहानी की रचना की है उपन्यास की रचना की है कितना उन भावों को निभा सका है जिन भावों को लेकर के उसने उसकी रचना की है फिर भाषा की सटीकता कितनी है भाषा कब पहना पन कितना है और भाषा कितनी छुट्टी ले शब्दों के साथ प्रस्तुत की गई है भाषा की जो प्रकार है चाहे वो अमिता का हो चाहे वह लक्ष्य ना कहो चेरुबिन जना जना के द्वारा जो किया गया है वह ज्यादा श्रेष्ठ होता है क्योंकि दर्शन अमिता को सर्वसाधारण समझ सकता है और व्यंजना को केवल व्यंजना उलझना को समझना ही विद्वता की बात होती है तो बेहतरीन लेकर को उसी माना जाता है जो सर्वसाधारण तक अपने भावों को सर्वसाधारण करने की क्रिया में करते हैं या सिद्ध होते हैं उस व्यक्ति को ही बेहतरीन लेखक माना जाता है क्योंकि वह अपनी भावनाओं को अपने विचारों को जनसाधारण तक संप्रेषित करने में एक्सपर्ट है उसी आधार पर ही उसे बेहतरीन लेकर सिद्ध किया जाता है
Kisee bhee saahityakaar ya kisee bhee bhaasha ka behatareen tikat kaatane ke lie paanch maapadand saahity marmagy dvaara nishchit kie gae kaaphee saahity mein bhee dekhenge to bhaav aur shabd chayan aadi ko dekha jaata hai aur gady saahity mein dekhe na jae dekha jaega to gady saahity mein jo bhaasha hai usaka prakaar bhaasha kee sateekata prabhaavon kee sateekata aadi sabhee kuchh dekha jaata hai vah lekhak jo jis topik par aartikal likh raha hai ya usane gady saahity kee rachana kee hai yah kahaanee kee rachana kee hai upanyaas kee rachana kee hai kitana un bhaavon ko nibha saka hai jin bhaavon ko lekar ke usane usakee rachana kee hai phir bhaasha kee sateekata kitanee hai bhaasha kab pahana pan kitana hai aur bhaasha kitanee chhuttee le shabdon ke saath prastut kee gaee hai bhaasha kee jo prakaar hai chaahe vo amita ka ho chaahe vah lakshy na kaho cherubin jana jana ke dvaara jo kiya gaya hai vah jyaada shreshth hota hai kyonki darshan amita ko sarvasaadhaaran samajh sakata hai aur vyanjana ko keval vyanjana ulajhana ko samajhana hee vidvata kee baat hotee hai to behatareen lekar ko usee maana jaata hai jo sarvasaadhaaran tak apane bhaavon ko sarvasaadhaaran karane kee kriya mein karate hain ya siddh hote hain us vyakti ko hee behatareen lekhak maana jaata hai kyonki vah apanee bhaavanaon ko apane vichaaron ko janasaadhaaran tak sampreshit karane mein eksapart hai usee aadhaar par hee use behatareen lekar siddh kiya jaata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बेहतरीन लेखक घोषणा के क्या मापदंड होते हैं बेहतरीन लेखक‌घोषणा के मापदंड
URL copied to clipboard