#undefined

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:37
सहमत हूं बच्चों को केवल किताबी ज्ञान ही पर्याप्त नहीं है अपितु ने उन्हें सामाजिक प्राणी भी बनाया जाए जिससे कि वह पिक्चर में एक सुयोग्य नागरिक बन सकें सहयोगी परिजन बन सके और परिवार के दायित्व को निभाने में सक्षम बंसल क्योंकि इंसान ना बन सके तो तुमने एक पैसा कमाने की मशीन बना डाला या एक ज्ञान बांटने के लिए उसको किताबी ज्ञान दबा दिया लेकिन यह आप अच्छी तरह समझ ले छोरी तब तक निरर्थक है जब तक इसका प्रैक्टिकल ना हो कि कल के आधार पर ही चोरी खरी उतरती है तो ही सार्थक है और यदि और ज्ञान मिल गया और प्रैक्टिकल ज्ञान बिल्कुल रह गया तो फिर आप उसको एक सामाजिक प्राणी तो क्या एक इंसान बिना बना पाएंगे और चेस्ट वाली प्रसन्न हो तू कितना भी बड़े उनके रिलेशन पर हो लेकिन जब तक उसने इंसानियत नहीं है तब तक तो सही हो तो मैं मानव पर काला का कारक नहीं और मानव कहलाने के लायक नहीं है इसलिए सामाजिक व्यवहारिक ज्ञान भी बच्चे के लिए किताबी ज्ञान के बराबर ही आवश्यक है
Sahamat hoon bachchon ko keval kitaabee gyaan hee paryaapt nahin hai apitu ne unhen saamaajik praanee bhee banaaya jae jisase ki vah pikchar mein ek suyogy naagarik ban saken sahayogee parijan ban sake aur parivaar ke daayitv ko nibhaane mein saksham bansal kyonki insaan na ban sake to tumane ek paisa kamaane kee masheen bana daala ya ek gyaan baantane ke lie usako kitaabee gyaan daba diya lekin yah aap achchhee tarah samajh le chhoree tab tak nirarthak hai jab tak isaka praiktikal na ho ki kal ke aadhaar par hee choree kharee utaratee hai to hee saarthak hai aur yadi aur gyaan mil gaya aur praiktikal gyaan bilkul rah gaya to phir aap usako ek saamaajik praanee to kya ek insaan bina bana paenge aur chest vaalee prasann ho too kitana bhee bade unake rileshan par ho lekin jab tak usane insaaniyat nahin hai tab tak to sahee ho to main maanav par kaala ka kaarak nahin aur maanav kahalaane ke laayak nahin hai isalie saamaajik vyavahaarik gyaan bhee bachche ke lie kitaabee gyaan ke baraabar hee aavashyak hai

और जवाब सुनें

Seema yadav   PGT Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Seema जी का जवाब
Teaching
2:36
नमस्कार आपका प्रश्न है कि बच्चों को किताबी कीड़ा बनाना क्या सही है क्या आप नहीं चाहते कि आपके बच्चे किताबी ज्ञान के सामाजिक ज्ञान को सीखी है जाने दो मैं बता दूं कि बच्चों को किताबी कीड़ा बनाना किसी हद तक अच्छा है और कभी भी कोई भी मामा भी नहीं चाहता है कि उसका बच्चा किताबी किया मैंने मेरे ख्याल से इस बच्चे को जितना किताब के साथ समय बिताना है उससे कहीं ज्यादा वह प्रकृति अपने बड़े बूढ़े माता-पिता के साथ भी पीता है क्योंकि जो प्रैक्टिकल होता है नॉलेज को ज्यादा दिन तक टिका रहता है और बच्चों को सामाजिक तौर पर जिम्मेदार नागरिक बनाने के लिए उसे आर्थिक सामाजिक राजनीतिक धार्मिक भौगोलिक सांस्कृतिक आज सारी बातों का भी ज्ञान होना जरूरी है जोकि फिर बातें आपको किताबों में नहीं मिल सकते अगर मिलती भी है तो हम उस पर ज्यादा काम नहीं करते हैं जहां तक हो अर्थात जीवन भारती ज्ञान देना चाहिए मैंने प्रैक्टिकल और छोरी दोनों अगर गद्दारी करें थोड़ा सा सीखता है तो आप यह मान कर चलिए प्रैक्टिकल में कुछ ज्यादा ही देखेगा बहुत अच्छा एक्सपेरिमेंट का होगा इसलिए मुझे लगता है कि किसी भी बच्चे से ज्यादा से ज्यादा किताबों से ज्यादा तो प्रैक्टिकल नॉलेज की छोरी ज्यादा काम नहीं आती है कितना प्रैक्टिकल एक्सपीरियंस बच्चे को ज्यादा ही देखते हैं यदि किसी भी चीज को अगर आप पढ़ते हैं बार-बार पड़ता है अब या तो कर लेंगे लेकिन उसको अगर सामने से जा करके देखते हैं सुनते हैं समझते तो आपका ज्यादा दिन तक का क्या हमेशा हमेशा के लिए आपके दिमाग में बना रहेगा इसलिए मेरा मानना है कि बच्चों को हर वो पर्यावरण से हर माहौल से अवगत कराइए जिससे सबसे पहले हुए एक सामाजिक प्राणी बन सके अच्छा इंसान बन सके एक जिम्मेदार नागरिक
Namaskaar aapaka prashn hai ki bachchon ko kitaabee keeda banaana kya sahee hai kya aap nahin chaahate ki aapake bachche kitaabee gyaan ke saamaajik gyaan ko seekhee hai jaane do main bata doon ki bachchon ko kitaabee keeda banaana kisee had tak achchha hai aur kabhee bhee koee bhee maama bhee nahin chaahata hai ki usaka bachcha kitaabee kiya mainne mere khyaal se is bachche ko jitana kitaab ke saath samay bitaana hai usase kaheen jyaada vah prakrti apane bade boodhe maata-pita ke saath bhee peeta hai kyonki jo praiktikal hota hai nolej ko jyaada din tak tika rahata hai aur bachchon ko saamaajik taur par jimmedaar naagarik banaane ke lie use aarthik saamaajik raajaneetik dhaarmik bhaugolik saanskrtik aaj saaree baaton ka bhee gyaan hona jarooree hai joki phir baaten aapako kitaabon mein nahin mil sakate agar milatee bhee hai to ham us par jyaada kaam nahin karate hain jahaan tak ho arthaat jeevan bhaaratee gyaan dena chaahie mainne praiktikal aur chhoree donon agar gaddaaree karen thoda sa seekhata hai to aap yah maan kar chalie praiktikal mein kuchh jyaada hee dekhega bahut achchha eksaperiment ka hoga isalie mujhe lagata hai ki kisee bhee bachche se jyaada se jyaada kitaabon se jyaada to praiktikal nolej kee chhoree jyaada kaam nahin aatee hai kitana praiktikal eksapeeriyans bachche ko jyaada hee dekhate hain yadi kisee bhee cheej ko agar aap padhate hain baar-baar padata hai ab ya to kar lenge lekin usako agar saamane se ja karake dekhate hain sunate hain samajhate to aapaka jyaada din tak ka kya hamesha hamesha ke lie aapake dimaag mein bana rahega isalie mera maanana hai ki bachchon ko har vo paryaavaran se har maahaul se avagat karaie jisase sabase pahale hue ek saamaajik praanee ban sake achchha insaan ban sake ek jimmedaar naagarik

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard