#undefined

bolkar speaker

कबीर जी के दोहे "निंदक नियरे राखिए" का अर्थ आप किस तरह स्पष्ट करेंगे?

Kabir Ji Ke Dohe Nindak Niyare Rakhie Ka Arth Ap Kis Tarah Spasht Karenge
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59
इस कारण आप का प्रश्न है सोशल मीडिया की इस झूठी दुनिया में कबीर जी के दोहे निंदक नियरे राखिए आंगन कुटी छवाय का अर्थ आप कैसे स्पष्ट करें देखी आज के समय में व्यक्ति इतना स्वार्थी हो गया है इसको अपने अलावा कुछ दिखता ही नहीं है एक मित्रता करता है तो उसमें भी अपना स्वार्थ है स्वार्थ होता है एक माता पिता के संबंध तक में वह स्वार्थ देखता है ऐसी स्थिति में कबीर जी का दोहा अत्यंत उचित है और इस दोहे के मुताबिक प्रत्येक मनुष्य को हर किसी पर बहुत बारीक नजर से विश्वास करना चाहिए और ऐसे निंदा करने वाले को अपने इर्द-गिर्द रखना चाहिए
Is kaaran aap ka prashn hai soshal meediya kee is jhoothee duniya mein kabeer jee ke dohe nindak niyare raakhie aangan kutee chhavaay ka arth aap kaise spasht karen dekhee aaj ke samay mein vyakti itana svaarthee ho gaya hai isako apane alaava kuchh dikhata hee nahin hai ek mitrata karata hai to usamen bhee apana svaarth hai svaarth hota hai ek maata pita ke sambandh tak mein vah svaarth dekhata hai aisee sthiti mein kabeer jee ka doha atyant uchit hai aur is dohe ke mutaabik pratyek manushy ko har kisee par bahut baareek najar se vishvaas karana chaahie aur aise ninda karane vaale ko apane ird-gird rakhana chaahie

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कबीर जी के दोहे "निंदक नियरे राखिए" का अर्थ आप किस तरह स्पष्ट करेंगे?Kabir Ji Ke Dohe Nindak Niyare Rakhie Ka Arth Ap Kis Tarah Spasht Karenge
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:58
कबीर दास जी ने कितना सार्थक लिखा है कबीर दास जी हिंदी साहित्य के एक ऐसे अनुपम कवि हैं अगर कभी हैं जिन्होंने समाज की बुराइयों को किसी प्रकार से ही नहीं किया धर्म की समाज की जो को बताएं की बुराइयां थी उनका उन्होंने चैट करके विरोध किया उन्होंने हिंदुओं की मूर्ति पूजा के लिए भी छुटकारा पहन पूजे हरि मिले तो मैं पूजू पहाड़ ताते यह चाकी भली पीस खाए संसार तो मुसलमानों को भी देश चिल्ला चिल्ला कर के अजान देते हैं उसके प्रति उन्होंने कहा कि कंकर पत्थर जोड़ के मस्जिद लई बनाय पाचन मुन्ना बांधे बहरा हुआ खुदाय इसी प्रकार से उन्होंने समाज को समझाने के लिए भी बहुत नीति के दोहे लिखे हैं उनमें से एक नीतिगत दुआ यह है निंदक नियरे राखिए आंगन कुटी छवाय बिन साबुन पानी बिना निर्मल करे सुभाय अर्थात अपने दुश्मनों की अपने विरोधियों की बातों को भी बड़े ध्यानपूर्वक सुनो अपने में सुधार करो क्योंकि वह तुम्हारे हितकारी क्योंकि भी तुमने सुधार चाहते हैं बिना पानी बिना साबुन के ही आपके समस्त गंदगी को दोषों को दूर करने के लिए आप को प्रेरित करते हैं हां आप को सुधार करना चाहिए ध्यान देना चाहिए क्योंकि हर मानव में दोस्त और गुण होते हैं कि नहीं मैं तो ज्यादा होते हैं इसलिए उसे अधिकतर अग्नि कहते हैं कि में कौन ज्यादा होते हैं इसलिए उसे कुर्बान कहते हैं लेकिन अपने विरोधियों की बातों को भी ध्यान पूर्वक सुनना चाहिए हमको सुधार करने के लिए प्रेरित करते हैं प्रेरणा देते हैं और उन दोषों को यदि हम दूर करते चले जाएंगे तो हमारा चरित्र एकदम निर्मल स्वच्छ साफ हो जाएगा देखिए आप उदाहरण मोदी जी के लिए जो मोदी जी के विरोधी हैं या योगी जी के विरोधी हैं कोई मोदी जी और योगी जी को पता नहीं कैसे-कैसे अपशब्द बोल देते हैं और पब्लिक प्लेस ओं से बोल दे लेकिन मोदी जी और योगी जी ने कभी भी उसका उल्टा उत्तर उनकी भाषा में अभद्र भाषा में कदापि नहीं दिया है उनकी चलचित्र की मानता है इसलिए प्रत्येक देशभक्त आज उन्हें उत्तम लीडर मानता है और उनकी पापुलैरिटी उनकी लोकप्रियता आज देश में सर्वाधिक है क्योंकि वे दोनों माताओं की सीमाओं को क्रॉस करते हुए महानतम होते जा रहे हैं देश के प्रति अपने आप में सुधार कर रहे हैं देश को विकास की ओर ले जा रहे हैं और देश को विकास कर रहे हैं देश के बेकरी हैं बी कर्तव्यनिष्ठ माने जाते हैं देश के प्रति वफादार माने जाते हैं और एक देशभक्त उन दोनों लेटेस्ट का मन से हृदय से सम्मान करता है जबकि उनके जो विरोधी हैं पब्लिक प्लेस ओं से कई बार इतनी अभद्र इतनी घटिया इतनी संस्कार विहीन इतनी शालीनता रहित भाषा का प्रयोग करते हैं जिसे सुनकर के साधारण से साधारण इंसान का भी खून खोलता है क्योंकि मोदी जी और योगी जी यह मानते हैं कि किस में पत्थर डालने से कि हमेशा तुम्हारे कपड़े खत्म कंधे करेगी इसलिए कभी भी उन्होंने अभद्र भाषा का प्रयोग नहीं किया शालीनता और संस्कारों को भी प्रदर्शित किया उनकी भाषा से शालीनता भद्रथा संस्कार सुनाई रितिक दिखाई देते हैं
Kabeer daas jee ne kitana saarthak likha hai kabeer daas jee hindee saahity ke ek aise anupam kavi hain agar kabhee hain jinhonne samaaj kee buraiyon ko kisee prakaar se hee nahin kiya dharm kee samaaj kee jo ko bataen kee buraiyaan thee unaka unhonne chait karake virodh kiya unhonne hinduon kee moorti pooja ke lie bhee chhutakaara pahan pooje hari mile to main poojoo pahaad taate yah chaakee bhalee pees khae sansaar to musalamaanon ko bhee desh chilla chilla kar ke ajaan dete hain usake prati unhonne kaha ki kankar patthar jod ke masjid laee banaay paachan munna baandhe bahara hua khudaay isee prakaar se unhonne samaaj ko samajhaane ke lie bhee bahut neeti ke dohe likhe hain unamen se ek neetigat dua yah hai nindak niyare raakhie aangan kutee chhavaay bin saabun paanee bina nirmal kare subhaay arthaat apane dushmanon kee apane virodhiyon kee baaton ko bhee bade dhyaanapoorvak suno apane mein sudhaar karo kyonki vah tumhaare hitakaaree kyonki bhee tumane sudhaar chaahate hain bina paanee bina saabun ke hee aapake samast gandagee ko doshon ko door karane ke lie aap ko prerit karate hain haan aap ko sudhaar karana chaahie dhyaan dena chaahie kyonki har maanav mein dost aur gun hote hain ki nahin main to jyaada hote hain isalie use adhikatar agni kahate hain ki mein kaun jyaada hote hain isalie use kurbaan kahate hain lekin apane virodhiyon kee baaton ko bhee dhyaan poorvak sunana chaahie hamako sudhaar karane ke lie prerit karate hain prerana dete hain aur un doshon ko yadi ham door karate chale jaenge to hamaara charitr ekadam nirmal svachchh saaph ho jaega dekhie aap udaaharan modee jee ke lie jo modee jee ke virodhee hain ya yogee jee ke virodhee hain koee modee jee aur yogee jee ko pata nahin kaise-kaise apashabd bol dete hain aur pablik ples on se bol de lekin modee jee aur yogee jee ne kabhee bhee usaka ulta uttar unakee bhaasha mein abhadr bhaasha mein kadaapi nahin diya hai unakee chalachitr kee maanata hai isalie pratyek deshabhakt aaj unhen uttam leedar maanata hai aur unakee paapulairitee unakee lokapriyata aaj desh mein sarvaadhik hai kyonki ve donon maataon kee seemaon ko kros karate hue mahaanatam hote ja rahe hain desh ke prati apane aap mein sudhaar kar rahe hain desh ko vikaas kee or le ja rahe hain aur desh ko vikaas kar rahe hain desh ke bekaree hain bee kartavyanishth maane jaate hain desh ke prati vaphaadaar maane jaate hain aur ek deshabhakt un donon letest ka man se hrday se sammaan karata hai jabaki unake jo virodhee hain pablik ples on se kaee baar itanee abhadr itanee ghatiya itanee sanskaar viheen itanee shaaleenata rahit bhaasha ka prayog karate hain jise sunakar ke saadhaaran se saadhaaran insaan ka bhee khoon kholata hai kyonki modee jee aur yogee jee yah maanate hain ki kis mein patthar daalane se ki hamesha tumhaare kapade khatm kandhe karegee isalie kabhee bhee unhonne abhadr bhaasha ka prayog nahin kiya shaaleenata aur sanskaaron ko bhee pradarshit kiya unakee bhaasha se shaaleenata bhadratha sanskaar sunaee ritik dikhaee dete hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कबीर जी के दोहे "निंदक नियरे राखिए" का अर्थ आप किस तरह स्पष्ट करेंगे कबीर जी के दोहे "निंदक नियरे राखिए" का अर्थ
URL copied to clipboard